ग्राम पंचायत ने ओडीएफ का तमगा तो पहना दिया, लेकिन आज भी खुले में शौच करने मजबूर हैं ग्रामीण

Reported By: Amitabh Bhattacharya, Edited By: Renu Nandi

Published on 06 Mar 2019 06:44 PM, Updated On 06 Mar 2019 07:21 PM

पखांजूर। स्वच्छ भारत मिशन के तहत तमाम ग्राम पंचायतों में शौचालय बनाने की कवायद में प्रत्येक ग्रामीण को अपने परिवार के पीछे घरों में शौचालय निर्माण करना था। वही कोयलीबेड़ा ब्लॉक के ग्राम पंचायत इरकबुटा के कुछ ग्रामीणों ने अपने घरों में शौचालय बनवाए, लेकिन ग्राम पंचायत ने अपनी वाहवाही लूटने के हिसाब से फर्जी तरीके से ग्राम पंचायत को ओडीएफ का तमगा पहना दिया।

ये भी पढ़ें -कांग्रेस चुनाव समिति की बैठक गुरुवार को, 11 लोकसभा सीट के दर्जनों 

इतना ही नहीं, यह भी देखा जा रहा है कि ग्राम पंचायत में सभी घरों में शौचालय निर्माण नहीं होने के कारण गांव के ग्रामीण आज भी लोटा दौड़ की तर्ज पर खुले में शौच करने के लिए जंगल जाने को मजबूर है। शौच के लिए जाना हो तो महिलाएं व पुरुष झुंड बना कर एक हाथ मे डंडा और दूसरे हाथ मे डिब्बा लिए जंगल की ओर जाते हैं। जंगल मे जंगली जानवरों का खतरा मंडराने के बावजूद ग्रामीणों को खुले में शौच करना मजबूरी बन चुकी है। वहीं जिम्मेदारों ने अपनी वाहवाही लूटने फर्जी तरीके से खुले में शौचमुक्त ग्राम का दर्जा दे दिया गया। जिन ग्रामीणों ने शौचालय बनवाए है उन्हें भी प्रोत्साहन राशि के तौर पर मिलने वाली 12000 की राशि भी नहीं दी गई है। ग्रामीणों ने मांग की है कि शौचालय का निर्माण करवाये ग्रामीणों को प्रोत्साहन राशि दी जाए और फर्जी तरीके से ओडीएफ का दर्जा दिलाने वाले लोगों पर कार्रवाई की जाए। पखांजुर एसडीएम ने मामले की जांच और कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

 

 

Web Title : ODF KI SACCHAI

जरूर देखिये