अब तक 3 मुख्यमंत्री ही पूरा कर पाएं है 5 साल का कार्यकाल, सियासी नाटक से कर्नाटक का पुराना है नाता

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 23 Jul 2019 11:36 PM, Updated On 23 Jul 2019 11:36 PM

बेंगलुरु: कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के बाद एचडी कुमारस्वामी की सरकार गिर गई है। इसके साथ ही भाजपा में खुशी की लहर दौड़ गई है। वहीं, दूसरी ओर खबर आ रही कि कर्नाटक भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा राज्यपाल वजुभाई वाला के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं। बता दें कुमारस्वामी की सरकार महज 14 माह ही चल पाई।

Read More: इस बार हरेली त्याहोर में सिर्फ गेड़ी ही नहीं इन खेलों के साथ छत्तीसगढ़ी व्यंजनों का भी लिजिए मजा, सरकार ने जारी किया निर्देश

वहीं, दूसरी ओर कर्नाटक के इतिहास पर नजर डाला जाए तो अब तक कर्नाटक में तीन मुख्यमंत्री ही ऐसे हैं जिन्होंने अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा किया है। 5 साल का कार्यकाल पूरा करने वाले तीनों ही मुख्यमंत्री कांग्रेस के थे।

Read More: इस सरकारी अस्पताल में फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी कर रहा था 'मुन्ना भाई MBBS', 1 लाख 10 हजार थी सैलरी

तीन कांग्रेस नेताओं ने ही पूरा किया 5 साल का कार्यकाल
अब तक कर्नाटक में 5 साल का कार्यकाल पूरा करने वाले तीनों ही मुख्यमंत्री कांग्रेस के नेता थे। एन निजलिंगप्पा (1962-68), डी देवराजा उर्स (1972-77) और सिद्धरमैया (2013-2018) ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया। वहीं, भाजपा या गठबंधन का कोई भी ऐसा मुख्यमंत्री कर्नाटक की सत्ता में नहीं आए, जिन्होंने अपना 5 साल पूरा करने में कामयाब नहीं हो पाए।

Read More: कर्नाटक में कांग्रेस सरकार गिरने पर शिवराज ने कसा तंज, एमपी के लिए कही ये बात

पहली बार 2006 में सीएम बने थे कुमारस्वामी
पहली बार भाजपा नीत गठबंधन सरकार में कुमारस्वामी दो साल से भी कम समय तक फरवरी, 2006 से अक्टूबर 2007 तक मुख्यमंत्री रहे। उनका सत्ता साझेदारी को लेकर भाजपा से मतभेद हो गया और उन्होंने राज्य में भगवा पार्टी नीत सरकार का समर्थन करने से इनकार कर दिया। कांग्रेस-जदएस गठबंधन सरकार में मुख्यमंत्री के रूप में उनका दूसरा कार्यकाल मई, 2018 में शुरू हुआ। चुनाव के बाद त्रिशंकु विधानसभा अस्तित्व में आई थी, तब यह गठबंधन सरकार बनी।

Read More: कुमारस्वामी की सरकार गिरने के बाद जीतू पटवारी का बड़ा बयान, कहा- ये कमलनाथ की सरकार है, लेने होंगे 7 जन्म

2007 में पहली बार सीएम की कुर्सी पर बैठा भाजपा नेता
भाजपा के मामले में बी एस येदियुरप्पा 2007 में पहली बार मुख्यमंत्री बने लेकिन वह सात दिन तक ही पद पर रहे क्योंकि जेडीएस ने समर्थन वापस ले लिया था और राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया। मई, 2008 में येदियुरप्पा की अगुवाई में भाजपा ने राज्य में ऐतिहासिक जीत दर्ज की और वह दूसरी बार मुख्यमंत्री बने लेकिन कथित भ्रष्टाचार के चलते उन्हें जुलाई, 2011 में कुर्सी छोड़नी पड़ी।

Read More: गुर्जर हत्याकांड में हाईकोर्ट ने दिए सीबीआई जांच के आदेश, एसपी सहित कई पुलिस अधिकारियों की भूमिका की होगी जांच

मुख्यमंत्री के रूप में उनका तीसरा कार्यकाल 2018 में महज छह दिन 17 मई, से लेकर 23 मई रहा और उन्होंने बहुमत के अभाव में इस्तीफा दे दिया। कर्नाटक 1956 में बना था। तब से राज्य ने 25 मुख्यमंत्री देखे जिनमें ज्यादातर कांग्रेस से थे।

Read More: सीएम भूपेश बघेल ने नेशनल व्हील चेयर रकबी चैम्पियनशिप के खिलाड़ियों की मुलाकात, बुलंद हौसले को किया सलाम

Web Title : only three chief ministers completed their tenure in karnataka history

जरूर देखिये