आधी रात चल रही थी नर्सिंग छात्राओं की प्रैक्टिकल परीक्षा, अस्पताल प्रबंधन ने हर छात्रा से लिए थे 2000 रूपए

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 23 Aug 2019 12:01 AM, Updated On 23 Aug 2019 12:01 AM

ग्वालियर: जिला प्रशासन ने गुरूवार देर रात जयरोग्य अस्पताल में दबिश दी। इस दौरान जिला प्रशासन के अधिकारियों ने पाया कि अस्पताल प्रबंधन द्वारा नर्सिंग छात्राओं से पैसे लेकर गुपचुप तरिके से प्रैक्टिकल परीक्षा दिलावाया जा रहा था। बताया जा रहा है कि छात्राओं से इस गुपचुप परीक्षा के लिए 500 से 2000 रुपए तक फीस लिए गए थे। इस परीक्षा में 500 से अधिक छात्राएं शामिल हुए थे। फिलहाल जिला प्रशासन की टीम की दबिश के बाद प्रैक्टिकल परीक्षा रोक दी गई है।

Read More: ABVP ने यूनिवर्सिटी कैंपस में लगाया सावरकर का स्टैच्यू, NSUI कार्यकर्ताओं ने पहना दी जूते की माला, पोत दी कालिख

मिली जानकारी के अनुसार गुरूवार रात जिला प्रशासन को जानकारी मिली कि जयरोग्य अस्पताल में छात्राओं से पैसे लेकर गुपचुप तरीके से नर्सिंग छात्राओं को प्रैक्टिकल परीक्षा दिलवाया जा रहा है। शिकायत के आधार पर एसडीएम और एडीएम ने जिला प्रशासन की टीम के साथ अस्पताल में दबिश दी। इस दौरान जिला प्रशासन की टीम ने पाया कि यहां देर रात 500 से अधिक छात्राएं प्रैक्टिकल परीक्षाएं पहुंची हैं। बताया जा रहा है कि परीक्षा देने पहुंची सभी छात्राएं शहर के बाहर से थीं।

Read More: बाद पहली छत्तीसगढ़ पहुंचे रामलाल, कार्यकर्ताओं से की मुलाकात

इस दौरान जिला प्रशासन की टीम को छात्राओं ने बताया कि प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए 500 रूपए से 2000 रूपए तक फीस ली गई थी और रात में परीक्षा का आयोजन किया गया था।

Read More: छत्तीसगढ़ पुलिस की अनूठी पहल, शैक्षणिक लोन कल्याण योजना के तहत बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए मिलेगा लोन

Web Title : Organised Nursing Students Practical Exam at Midnight

जरूर देखिये