पद्मावत रिलीज होने से पहले ही गंवा चुकी है 25 फीसदी कलेक्शन

Reported By: Pushpraj Sisodiya, Edited By: Pushpraj Sisodiya

Published on 17 Jan 2018 12:35 PM, Updated On 17 Jan 2018 12:35 PM

मुंबई। मरता क्या न करता, संजय लीला भंसाली की हालत इन दिनों कुछ ऐसी ही है। पद्मावती से पद्मावत हो चुकी फिल्म में कई कट्स ने पहले से ही हालत बिगाड़ रखी है, ऊपर से एक के बाद एक करके जिस तरह से राज्य सरकारें इस पर बैन लगा चुकी हैं, उससे बॉक्स ऑफिस पर इसे बड़े झटके के साफ आसार हैं। मध्य प्रदेश, गुजरात और राजस्थान में तो पद्मावत पर पाबंदी पहले से ही लगी हुई है, अब एक और भाजपा सरकार भी इस लिस्ट में शामिल हो गई है। हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने आधिकारिक रूप से ये ऐलान कर दिया है कि राज्य में पद्मावत की रिलीज नहीं होगी। हरियाणा सरकार में मंत्री अनिल विज ने ट्वीट करके ये जानकारी दी है।

जहां तक बॉक्स ऑफिस कलेक्शन का सवाल है, आपको बता दें कि देश में जो फिल्म रिलीज होती है, उसकी कमाई में से औसतन 10-11 प्रतिशत गुजरात से, 5-6 प्रतिशत मध्य प्रदेश से और 4-5 प्रतिशत राजस्थान से आता है। तीन राज्यों का ये आंकड़ा 20 फीसदी है, जिसमें हरियाणा को शामिल करने पर ये करीब 24-25 फीसदी होता है। यानी पद्मावत को मौजूदा स्थिति में सिर्फ 75 फीसदी मार्केट ही मिल पाएगा, लेकिन मुसीबत सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है। करणी सेना ने एक बार फिर ऐलान किया है कि इस फिल्म को देश में कहीं भी चलने नहीं देगी। इस संगठन ने ऐलान किया है कि वो पद्मावत पर देशव्यापी पाबंदी से कम पर किसी कीमत पर तैयार नहीं होने वाली।

करणी सेना के प्रमुख ने प्रधानमंत्री और राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अपील की है कि वो उनकी भावनाओं को समझें और पद्मावत के प्रदर्शन पर रोक लगाएं।

जिस तरह से पद्मावत के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं और विरोध की धमकी दी जा रही है, वो अगर 25 जनवरी को रिलीज हो रही इस फिल्म को लेकर कानून-व्यवस्था के लिए चुनौती बनती है तो दूसरे राज्यों में भी पाबंदी की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट मिलने से पहले उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में भी पद्मावत पर बैन की घोषणा की गई थी। इसके अलावा गोवा पुलिस ने भी गोवा सरकार को पद्मावत पर बैन लगाने की चिट्ठी लिखी थी। 

ये भी पढ़ें-  विदेशी लड़की का देसी डांस, देखिए वीडियो

190 करोड़ की लागत से बनी पद्मावत इस हालात में अपनी लागत का कितना वसूल कर पाएगी, ये अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है। इसके अलावा 25 जनवरी को ही अक्षय कुमार की सामाजिक मुद्दे पर बनी फिल्म पैडमैन भी रिलीज हो रही है। पैडमैन की रिलीज की डेट पहले से तय थी, जबकि पद्मावत को इसी तारीख पर रिलीज करने की घोषणा बाद में की गई थी, ऐसे में पद्मावत को मल्टीप्लेक्सों में भी पैडमैन की तरह प्राथमिकता नहीं मिल पाई। कुल मिलाकर संजय लीला भंसाली के लिए पद्मावत विवाद एक बुरे सपने से कम नहीं, जो लंबे अरसे तक उनकी नींद उड़ाती रहेगी।

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Padmavat incurs the loss of 25 % collection, even before its release

जरूर देखिये