पाकिस्तान का इकरारनामा, कश्मीर पर किसी मुल्क से नहीं मिलेगा साथ, सबका हित भारत के साथ

 Edited By: Anil Kumar Shukla

Published on 13 Aug 2019 11:40 AM, Updated On 13 Aug 2019 11:40 AM

नई दिल्‍ली। रहनुमा चीन ने दी नसीहत, अमेरिका ने झाड़ा पल्ला, इस्लामिक देशों ने भी नही ली रूचि, संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों ने तो जवाब देना भी उचित नही समझा, अब तेरा क्या होगा पाकिस्तान? आखिरकार पाकिस्तान ने यह मान लिया कि कश्मीर पर उसके साथ कोई नही है। जबकि भारत के रूख का रूस जैसे कई देशों ने खुलकर समर्थन किया है।

read more : सुप्रीम कोर्ट में आज 370 को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई, नेताओं को रिहा करने की मांग

जम्‍मू-कश्‍मीर में आर्टिकल 370 खत्‍म होने के बाद दर दर की ठोकरे खाने के बाद पाकिस्तान ने अपने आप को परास्त मान गया है। यह भारत के लिए एक बड़ी कामयाबी है। पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ये बात स्‍वीकार करते हुए कहा कि संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद के पांचों स्‍थायी सदस्‍यों (P5) के समक्ष यदि वह कश्‍मीर मुद्दे को उठाता है तो उसको समर्थन मिलना मुश्किल है। यहां तक कहा कि मुस्लिम देशों से भी उनको समर्थन मिलता नहीं दिख रहा।

read more : पाकिस्तान की बौखलाहट या पीओके छिन जाने की घबराहट, बार्डर पर तैनात किए फाइटर प्लेन

पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा, ''सुरक्षा परिषद के लोग कोई गुलदस्‍ता लेकर नहीं खड़े हैं। P5 सदस्‍यों में से कोई भी बाधा उत्‍पन्‍न कर सकता है इस मामले में कोई अस्‍पष्‍टता नहीं होनी चाहिए। किसी तरह के भ्रम में नहीं रहना चाहिए... ढ़ेर सारे देशों के भारत के साथ हित जुड़े हैं। मैंने पहले ही इस बारे में आपको संकेत दिए थे। ढेर सारे लोगों ने भारत में निवेश किया है।

read more : सनकी प्रेमी ने पहले तो प्रेमिका को उतारा मौत के घाट, फिर खुद को चाकुओं से गोदा, अब झूल रहा जीवन व मौत के बीच

बता दें कि सऊदी अरब की सबसे बड़ी सरकारी कंपनी अरामको ने रिलायंस के तेल एवं केमिकल बिजनेस में 20 प्रतिशत निवेश का ऐलान किया है। राजस्‍व के लिहाज से अरामको दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है। रिलायंस में निवेश के साथ ही यह भारत में सबसे बड़ा प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश है। इसी तरह पिछले एक हफ्ते में इस्‍लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) के दो सदस्‍यों यूएई और मालदीव ने कश्‍मीर के मुद्दे पर भारत का समर्थन करते हुए कहा कि ये उसका अंदरूनी मामला है।

Web Title : Pakistan's agreement will not get Kashmir from any country, everyone's interest with India

जरूर देखिये