छत्तीसगढ़ के स्कूलों में उड़िया पाठ्यक्रम शामिल करने खटखटाया हाईकोर्ट का दरवाजा, शासन ने दिया ये जवाब

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 11 Jul 2019 11:48 PM, Updated On 11 Jul 2019 11:48 PM

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में गुरूवार को एक अहम मामले में सुनवाई हुई। दरअसल छत्तीसगढ़ के स्कूलों में उड़िया भाषा पाठ्यक्रम को शामिल ​किए जाने को लेकर याचिकाकर्ता ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। मामले में छत्तीसगढ़ शासन ने कोर्ट को विचार कर निर्णय लेने का आश्वासन दिया है। फिलहाल कोर्ट ने शासन के जवाब पर याचिकाकर्ता की याचिका को निराकृत कर दिया है।

Read More: मानसून सत्र से पहले भूपेश कैबिनेट की अहम बैठक, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर

सेवानिवृत्त प्राचार्य प्रेमशंकर पंडा ने अधिवक्ता हमीदा सिद्दिकी के माध्यम से हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर राज्य में प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा में उड़िया भाषा को शामिल करने की मांग की थी। याचिका में कहा गया कि ओडिशा छत्तीसगढ़ का पड़ोसी राज्य है।

Read More: अचंभित रह गए लोग, जब पुरखौती मुक्तांगन में मंत्री अमरजीत सिंह भगत को देखा साइकिल पर

छत्तीसगढ़ में जगदलपुर, रायपुर सीमा, रायगढ़, सरायपाली, महासमुंद में बड़ी संख्या में उड़िया भाषी लोग रहते हैं। इनकी आबादी 10 लाख से अधिक है। संविधान में भी मातृभाषा में शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार है। 10वीं व 12वीं में उड़िया भाषा को शामिल किया गया है। इस आधार पर प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा में भी उड़िया भाषा को वैकल्पिक विषय के रूप में शामिल किया जाए।

Read More: भूपेश कैबिनेट का बड़ा फैसला, 168 नगरीय निकायों में शुरू किया जाएगा पौनी पसारी मार्केट, युवाओं को मिलेगा रोजगार का अवसर

पिछली सुनवाई में कोर्ट ने शासन को नोटिस जारी कर पूछा था कि याचिकाकर्ता के अभ्यावेदन पर क्या कार्रवाई की गई है। गुरुवार को शासन की ओर से जवाब प्रस्तुत कर बताया कि प्रदेश में पहली से आठवीं तक की शिक्षा में उड़िया भाषा को भी शामिल किया जाएगा। छात्र वैकल्पिक विषय के रूप में उड़िया भाषा विषय का चुनाव कर सकते हैं। जल्दी ही इस संबंध में मसौदा तैयार किया जाएगा।

Read More: डिनर पार्टी को लेकर सीएम कमलनाथ बोले- कर्नाटक-गोवा से मत किजिए मध्यप्रदेश की तुलना, दिल्ली की राजनीति पर हुई चर्चा

Web Title : Peal in high court for apply Oriya syllabus in chhattisgarh's school

जरूर देखिये