प्रापर्टी के लिए ननद ने किराए के गुंडों से 5 लाख की सुपारी देकर भाभी को उतरवाया मौत के घाट, पुलिस ने किया खुलासा

Reported By: Jitendra Kumar Goutam, Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 21 Jul 2019 11:22 PM, Updated On 21 Jul 2019 11:22 PM

दमोह: नरसिंहगढ़ क्षेत्र में महिने भर पहले दिन दहाड़े घर में घुसकर एक महिला आरक्षक की बहन की गोली मारकर हत्या मामले को लेकर पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया है। पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया है कि मृतिका की ननद ने ही 5 लाख रुपए देकर हत्या की साजिश रची थी और किराए के गुंडों ने वारदात को अंजाम दिया था। इस दौरान पुलिस ने यह भी बताया कि परिवारिक विवाद के चलते ननद ने अपनी भाभी की हत्या करवाई है।

Read More: दो बाइक की भिड़ंत में 1 की मौत, 2 बच्चों समेत 6 घायलों का उपचार जारी

मिली जानकार के अनुसार दमोह एसपी विवेक सिंह ने रविवार शाम अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाते हुए मीडिया को बताया कि पारिवारिक विवाद के चलते ननद ने ही अपनी भाभी की हत्या भाड़े के हत्यारों को सुपारी देकर कराई थी। हालांकि पुलिस गिरफ्त में आने के बाद भी आरोपी महिला इस बात से इनकार कर रही है कि उसने हत्या कराने के लिए सुपारी या 5 लाख की रकम देने की बात की थी। जबकि एसपी विवेक सिंह ने अपने खुलासे में बताया है कि किसी मोनू पाराशर के जरिए 5 लाख रुपयों में हत्या की सुपारी दी गई थी। पकड़ी गई आरोपी अनिता अवस्थी शिक्षिका है। जबकि मृतिका बबलू तिवारी की पत्नि आरती की बहन दमोह में पुलिस आरक्षक है।

Read More: RTI संशोधन कानून को लेकर सीएम भूपेश बघेल का बड़ा बयान, भाजपा पर निशाना 

गौरतलब है कि 18 जून को दिनदहाड़े बदमाशों ने आरती तिवारी नाम की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वारदात के बाद पुलिस ने मामले को लेकर निगम सिंह नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया था। पुलिस निगम सिंह से पूछताछ कर रही है। वहीं, मोनू पाराशर की तलाश अभी जारी है। अंधे कत्ल के मामले में सीएसपी मुकेश अविद्रा के निर्देशन में देहात थाना टीआई एचआर पांडे और नरसिंहगढ़ पुलिस चौकी की टीम की अहम भूमिका रही। प्रार्पटी के विवाद के चलते आपसी रिश्तों में आने वाली खटास किस तरह जानी दुश्मन जैसे हालात निर्मित कर देते हैं।

Read More: पूर्व मुख्यमंत्री ने किया कांग्रेस पर पलटवार, कहा- केंद्र ने दिया छत्तीसगढ़ को सम्मान

Web Title : Police solve murder case in damoh

जरूर देखिये