सिपाही ने लगाई फांसी, डीजीपी को लिखे सुसाइट नोट में ड्यूटी सिस्टम को ठहराया जिम्मेदार, कहा- मेरे इस शारीरिक त्याग को बेकार नहीं जाने देना

 Edited By: Rupesh Sahu

Published on 10 Jul 2019 05:06 PM, Updated On 10 Jul 2019 05:06 PM

उत्तर प्रदेश । अमरोहा जिले के थाना मंडी धनौरा में तैनात एक पुलिसकर्मी ने काम के दवाब की वजह से खुदकुशी कर ली है। सिपाही की जेब से प्रदेश पुलिस महानिदेशक के नाम एक सुसाइड नोट मिला है। इस लेटर में मृतक ने पुलिस विभाग में ड्यूटी सिस्टम को खुद की मौत का जिम्मेदार ठहराया है। लेटर के अंत में उसके बलिदान को व्यर्थ ना जाने देने की बात कहते हुए लिखा है कि ड्यूटी सिस्टम में सुधार कर मेरे जैसे मानसिक रूप से कमजोर हो चुके कर्मचारियों की जान बचाई जानी चाहिए। हालांकि सूत्रों के मुताबिक सिपाही के पिता ने टीआई पर उनके बेटे को प्रताड़ित करने का आरोप लगाकर fir दर्ज करने के लिए शिकायत दी है।

ये भी पढ़ें- आरआई बना दिए गए नायब तहसीलदार, और नायब तहसीलदार बन गए तहसीलदार.. दे...

खुदकुशी करने वाले सिपाही का नाम पंकज बालियान था जो मुजफ्फरनगर जिले का रहने वाला था। जांच अधिाकरी के मुताबिक मृतक दो दिन पहले ही छुट्टी बिताकर ड्यूटी पर लौटा था और वह थाने के नजदीक ही एक मकान में किराए से रहता था। मृतक के साथ एक और सिपाही भी रहता था। बीते दिन पंकज की ड्यूटी रामलीला मैदान में लगी प्रदर्शनी में लगाई थी। सोमवार देर रात वह ड्यूटी से लौटकर कमरे पर पहुंचा लेकिन सुबह देर तक जब उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी तो उसके साथी ने किसी तरह कमरे के अंदर जाकर देखा तो पंकज का शव फांसी के फंदे पर लटका हुआ मिला। उसकी जेब से एक सुसाइड लेटर मिला । मामले में डीआईजी एलओ विजय भूषण के मुताबिक सुसाइड लेटर का परीक्षण किया जा रहा है। ड्यूटी के दबाव जैसा कुछ नहीं है, जो ड्यूटी पंकज कर रहे थे वही ड्यूटी सभी कांस्टेबल करते हैं, सुसाइड में पारिवारिक कारणों के एंगल से बी जांच की जा रही है।

ये भी पढ़ें- अतिथि शिक्षक नहीं लिख पाया सितंबर की स्पेलिंग, कलेक्टर ने लगाई जमकर...

पुलिस के दी जानकारी के मुताबिक कथित सुसाइड लेटर उत्तरप्रदेश के डीजीपी के नाम से लिखा गया है। सुसाइड नोट में लिखा है कि वह पुलिस की ड्यूटी सिस्टम से परेशान हैं। सोशल मीडिया में वायरल हो रहे सुसाइड नोट में लिखा है, ‘मेरी मौत का जिम्मेदार केवल ड्यूटी सिस्टम खराब होना है। इसलिए मेरी मौत का जिम्मेदार किसी अधिकारी, कर्मचारी, थाना स्टाफ, दोस्त, परिवार या लड़की को ना ठहराया जाए। नोट में आखिरी में लिखा है कि महोदय निवेदन है कि ड्यूटी सिस्टम में सुधार करें जिससे मेरे जैसे मानसिक रूप से कमजोर हो चुके कर्मचारियों की जान बचाई जा सके। साथ ही यह भी लिखा कि मेरे इस शारीरिक त्याग को बेकार नहीं जाने देना।

 

Web Title : Policeman hanged Duty system is responsible for suicides

जरूर देखिये