राहुल गांधी ने कहा- चुनाव आयोग हमसे भेदभाव न करें, 11 पेजों में लिखकर भेजा जवाब

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 11 May 2019 06:53 PM, Updated On 11 May 2019 06:53 PM

नई दिल्ली। चुनाव आयोग के द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के मामले में भेजी गई नोटिस को लेकर राहुल गांधी ने 11 पेजों में जवाब लिखकर भेजा है। राहुल गांधी ने चुनाव आयोग से कहा है कि आचार संहिता के उल्लंघन के मामले से जुड़ी शिकायतों का निपटारा कराने के दौरान निष्पक्ष रहे, और कांग्रेस के खिलाफ किसी प्रकार का भेदभाव न करें।

ये भी पढ़ें: बीजेपी को चुनाव आयोग का नोटिस, 'नमो टीवी' पर नियमों के उल्लंघन करने का आरोप

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि, जब उन्होंने शहडोल में कहा था कि, मोदी सरकार ने ऐसा कानून बनाया है जिसमें आदिवासियों को गोली मारने की अनुमति दी गई है तो उन्होंने आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया था राहुल गांधी ने कहा कि उनकी किसी प्रकार से मंशा लोगों को बहकाने की नहीं थी। उनका कहना है कि वे भारतीय वन कानून में प्रस्तावित संशोधन को अपने भाषण में आसानी से समझाने की कोशिश कर रहे थे।

ये भी पढ़ें: आम आदमी पार्टी ने भेजा गंभीर को नोटिस, कहा- 24 घंटे के भीतर मांगे माफी

दरअसल मध्य प्रदेश के शहडोल में 23 अप्रैल को राहुल गांधी ने दावा किया था कि, मोदी सरकार ने ऐसा नया कानून बना दिया है जिसमें आदिवासियों को गोली मारने की इजाजत दी गई है। जिसके बाद राहुल गांधी के इस बयान पर चुनाव आयोग ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

 

Web Title : Rahul Gandhi said: Do not discriminate against us by the Election Commission, written in 11 pages.

जरूर देखिये