लोगों को मारने के लिए रेलवे काफी, आतंकियों की क्या जरूरत?-राज ठाकरे

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 30 Sep 2017 04:54 PM, Updated On 30 Sep 2017 04:54 PM

मुंबई एलफिंस्टन रेलवे स्टेशन पर भगदड़ से 22 की मौत

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने मुंबई में एलफिंस्टसन रोड रेलवे स्टेशन पर शुक्रवार को हुए दर्दनाक हादसे पर बेहद तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। MNS प्रमुख ने कहा है कि कि हमारे देश को आतंकियों की जरूरत नहीं है. चाहे वो चीन हो या पाकिस्तान, हमारे लोग इसी तरह के हादसों में मरते रहेंगे. इस सरकार ने रेलवे स्टेशन का नाम तो बदल दिया, लेकिन नाम बदलने से क्या होगा? राज ठाकरे ने कहा कि हर साल 15000 लोग रेल हादसों में मरते हैं और इनमें से 6 हजार मौत सिर्फ मुंबई में होती है.

राज ठाकरे ने दिया विवादित बयान, कार्रवाई की मांग

कांग्रेस सत्ता में हो या बाहर हो और फिर भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आए, स्थिति में परिवर्तन नहीं होता, कुछ भी नहीं बदलता. राज ठाकरे ने चेतावनी दी कि अगर रेलवे ने यहां बुनियादी ढांचे में सुधार नहीं किया तो वह मुंबई में बुलेट ट्रेन का काम शुरू नहीं होने देंगे. उन्होंने कहा कि अगर नरेंद्र मोदी बुलेट ट्रेन चलाना चाहते हैं तो गुजरात में ही चलाएं मुंबई में नहीं. अगर वे लोग ताकत का इस्तेमाल करेंगे तो हमें (मनसे) सोचना पड़ेगा कि क्या करना है. 

हिंदुओं पर हमले रोकना है तो भारत घोषित हो हिंदू राष्ट्र : उद्धव ठाकरे

राज ठाकरे ने एलफिंस्टन हादसे को लेकर 5 अक्टूबर को हम अपने अंदाज में चर्चगेट पर रेलवे अधिकारियों से पूछेंगे. उन्होंने कहा कि रेलवे अधिकारियों के पास कोई जवाब नहीं है. मनसे नेता ने कहा कि रेलवे बारिश को इस हादसे का दोष दे रही है. क्या मुंबई में पहली बार बारिश हुई है? मैंने भी लोकल ट्रेनों में सफर किया है. स्टेशनों पर बहुत कम जगह है.

बाला साहेब ठाकरे भी निशाने पर थे लश्कर के: हेडली

रेहड़ी और खोमचे वालों को चेताते हुए उन्होंने जगह खाली करने कहा, और ऐसा न करने पर अपने तरीके से उन्हें हटाने की बात कही. राज ठाकरे ने कहा कि 5 अक्टूबर को चर्च गेट से मनसे का मोर्चा निकालेंगे. राज ठाकरे खुद इस मोर्चा में शामिल रहेंगे. मुंबई के सभी रेलवे स्टेशनों की हम जानकारी लेंगे और रेलवे ऑफिसों में जाएंगे. लोग आगे आएंगे और मोर्चा के लिए आएंगे.

राज ठाकरे ने मराठियों और गैर मराठियों का राग एक बार फिर छेड़ते हुए कहा कि जब तक बाहर के प्रांतों से आने वाले लोगों की संख्या पर काबू नहीं पा लिया जाता, स्थिति नहीं सुधरेगी। जब तक बाहरी लोगों का आना नहीं रुकता है, हमारा शहर ऐसे ही कांपता रहेगा. हर रोज हजारों लोग मुंबई आते हैं और सब बाहरी होते हैं. लोगों को समझना होगा कि सिर्फ सरकार बदलने से कुछ नहीं होता.

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Railways to kill people, what is the need of terrorists?

जरूर देखिये