राकेश अस्थाना सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर नियुक्त

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 23 Oct 2017 04:50 PM, Updated On 23 Oct 2017 04:50 PM

गुजरात कैडर के एडीशनल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को सीबीआई में स्पेशल डायरेक्टर बनाया गया है। राकेश अस्थाना बहुचर्चित चारा घोटाला मामले की जांच के बाद सुर्खियों में आए थे.

उन्होंने लालू यादव के खिलाफ 1996 में चार्जशीट दायर कर उन्हें गिरफ्तार करवाया था। 1997 में उनके समय ही लालू पहली बार गिरफ्तार हुए। उस समय उनकी उम्र 35 वर्ष थी। वे तब सीबीआई एसपी के तौर पर तैनात थे। 

ये भी पढ़ें- दिल्ली के 4 रेलवे स्टेशन पर NGT ने लगाया जुर्माना

अस्थाना को मूल रूप से लालू से पूछताछ के लिए ही जाना जाता है। 1997 को उन्होंने चारा घोटाले में लालू से 6 घंटे तक पूछताछ की थी। अस्थाना ने ही धनबाद में डीजीएमएस के महानिदेशक को घूस लेते पकड़ा था। उस समय तक पूरे देश में अपने तरीके का यह पहला मामला था, जब महानिदेशक स्तर के अधिकारी सीबीआई गिरफ्त में आए थे।

ये भी पढ़ें-  नरेंद्र पटेल ने बीजेपी पर लगाया 1 करोड़ की पेशकश देने का आरोप

अस्थाना ने ही चर्चित गोधरा कांड की भी जांच की थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर आर.के. राघवन की अगुआई में गठित हुई एसआईटी ने भी सही माना था। अहमदाबाद में 26 जुलाई, 2008 को हुए बम ब्लास्ट की जांच का जिम्मा राकेश को ही दिया गया था। उन्होंने 22 दिनों में ही केस को सुलझा दिया था।

ये भी पढ़ें- टीम इंडिया का हर खिलाड़ी हिंदुस्तानी, IPS संजीव भट्ट को हरभजन की नसीहत

अस्थाना ने ही आसाराम बापू और उनके बेटे नारायण सांईं के मामले में भी जांच की थी। फरार चल रहे नारायण सांईं को हरियाणा-दिल्ली बॉर्डर पर पकड़ा था। वर्तमान समय में अस्थाना को सीबीआई का एडिशनल डायरेक्टर बनाया गया है। इस पद पर इनकी नियुक्ति 4 साल के लिए हुई है।

राकेश धनबाद में सीबीआई की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा के एसपी रह चुके हैं। वे रांची में डीआईजी पद पर थे। राकेश अस्थाना का नाम कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार अधिकारियों की सूची में खास तौर से शामिल रहा है। 1994 में उन्होंने सनसनीखेज पुरुलिया आर्म्स ड्रॉप केस की फील्ड इंवेस्टिगेशन सुपरवाइज की थी।

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Rakesh Asthana appointed special director of CBI

जरूर देखिये