मेडिसिन विभाग के रजिस्ट्रार के प्रमोशन का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, पूर्व मुख्यमंत्री पर लगाया यह आरोप

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 15 Apr 2019 02:27 PM, Updated On 15 Apr 2019 02:27 PM

ग्वालियर। मध्यप्रदेश में गजराराजा मेडिकल कॉलेज ग्वालियर के मेडिसन विभाग के रजिस्ट्रार डॉ. जेएस नामधारी के विवादित प्रमोशन का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुका है। मामले में व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई है, जिस पर आज(सोमवार) को सुनवाई हुई।

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट याचिका सुनने के लिए ग्वालियर हाईकोर्ट को आदेश दिया है। याचिका में कहा गया है कि डॉ. जेएस नामधारी को नियमों को ताक पर रखकर प्रमोशन दिया गया है। याचिका में कहा गया है कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आरएसएस के दबाब में उन्हें प्रमोशन दिया। डॉ नामधारी आरएसएस से थे इसलिए 3 बार प्रमोशन दिया गया। चतुर्वेदी ने याचिका में नामधारी और शिवराज सिंह चौहन सहित 8 लोगों को पार्टी बनाया है।

यह भी पढ़ें : उर्मिला मातोंडकर के चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं और बीजेपी समर्थकों के बीच हाथापाई 

गौरतलब है कि व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी ने 2016 में भी यह मामला उठाया था। उन्होंने डॉ. जेएस नामधारी को पहले स्वास्थ्य विभाग से चिकित्सा शिक्षा विभाग में संविलियन और फिर असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर पदोन्नत किए जाने पर सवाल उठाए थे। आशीष ने आरोप लगाया था कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मध्य भारत प्रांत में संपर्क प्रमुख का दायित्व निभा रहे डॉ. नामधारी को उपकृत करने के लिए शिवराज सरकार ने सारे नियम ताक पर रख दिए।

 

Web Title : Registrar of Department of Medicine promotion case is in supreme court now

जरूर देखिये