The changing times of bureaucrats, from labor to education, in government sectors | नौकरशाहों के बदलते तेवर,प्रसव से लेकर पढ़ाई तक सरकारी क्षेत्रों में

नौकरशाहों के बदलते तेवर,प्रसव से लेकर पढ़ाई तक सरकारी क्षेत्रों में

Reported By: Renu Nandi, Edited By: Renu Nandi

Published on 05 Jan 2018 01:02 PM, Updated On 05 Jan 2018 01:02 PM

रायपुर -छत्तीसगढ़ में गायत्री परिवार का मूलमंत्र हम बदलेंगे युग बदलेगा वाली परम्परा अब शुरू हो गयी है। नौकरशाह और नेताओं की बदलती सोच का नतीजा है कि अब  सरकारी स्कूल से लेकर सरकारी अस्पतालों तक लोग अपना रुख कर रहे है.हाल ही में राजनांदगाव के नगर निगम कमिश्नर अश्वनी देवांगन ने भी अपनी गर्भवती पत्नी की डिलीवरी सरकारी अस्पताल में कराकर छत्तीसगढ़ में एक और बेहतर कल की शुरुवात की है।राजनांदगांव के सरकारी अस्पताल में निगम आयुक्त की पत्नी का सिजेरियन ऑपरेशन हुआ. कमिश्नर अश्विनी देवांगन के मुताबिक उन्हें और उनकी पत्नी को सरकारी अस्पताल के चिकित्सकों पर भी पूरा भरोसा है. उनके मुताबिक सरकारी अस्पतालों के हालात अब पहले जैसे नहीं हैं. अब यहां भी निजी अस्पतालों की तरह सुविधाएं जुटाई जा रही हैं. उनके मुताबिक जनता को भी सरकारी अस्पतालों के प्रति अपना विश्वास बढ़ाना होगा।

 आपको बता दे कि कुछ महीने पहले ही बलरामपुर के कलेक्टर अविनाश शरण ने अपनी बेटी का एडमिशन सरकारी स्कूल में करा कर नई पहल की शुरुवात की थी। उस वक्त लोगो में बड़ी  कौतुहल थी कि कैसे एक आईएएस की बेटी सरकारी स्कूल में पढ़ेगी। कलेक्टर के बाद एक आईपीएस ने भी इस पहल को आगे बढ़ाया। छत्तीसगढ़ में पदस्थ स्पेशल इन्वेस्टिगेशन ब्यूरों के एसपी डी. रविशंकर  ने अपनी बेटी दिव्यांजलि का दाखिला रायपुर  शहर के शांति नगर स्थित एक सरकारी प्राइमरी स्कूल में कराया है.जिसे देखते हुए लग रहा है कि छत्तीसगढ़ में सरकारी क्षेत्रों की बिगड़ती हालात को ये नौकरशाह ही सुधार सकते हैं 

बता दें कि दो माह पूर्व छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अपनी पुत्र वधु का प्रसव भी रायपुर के सरकारी भीमराव अंबेडकर अस्पताल में कराया था. उनके सांसद पुत्र अभिषेक सिंह की पत्नी को यहां बेटी हुई थी. इस दौरान मुख्यमंत्री रमन सिंह ने भी कहा था कि सरकारी अस्पताल भी उतने ही सुरक्षित हैं जितने की निजी अस्पताल.

फिलहाल सरकारी अफसरों और बड़े नेताओं के सरकारी अस्पतालों में रुख करने से राज्य की लचर स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार आएगी ऐसी उम्मीद की जा रही है.आपको बता दें कि कुछ साल पहले मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह अपनी माता जी और पिता जी का पूरा इलाज भी सरकारी अस्पताल में ही करवाए थे तब भी उन्होंने जनता से उम्मीद की थी कि बदलते हालात के लिए सहयोग करें।

IBC24 WEB NEWS

Web Title : The changing times of bureaucrats, from labor to education, in government sectors

जरूर देखिये