विधायक की हत्या पर NIA द्वारा जांच कराने पर बोले गृहमंत्री, राज्य सरकार से लेनी थी अनुमति

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 22 May 2019 09:49 PM, Updated On 22 May 2019 09:49 PM

रायपुर। केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा विधायक भीमा मंडावी की हत्या की जांच एनआईए से कराने का एकतरफा फैसला किया है, जिसको लेकर प्रदेश के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने
भीमा मंडावी की हत्या की जांच एनआईए द्वारा कराने पर एतराज जताया है। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा है कि मुझ किसी प्रकार की जांच से कोई आपत्ति नहीं है। 

ये भी पढ़ें: छग पुलिस का ऑनलाइन एफआईआर पोर्टल ठप, हैक होने की आशंका

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि NIA की जांच से पहले अगर राज्य सरकार की अनुमति ली जाती तो ज्यादा बेहतर होता। साथ ही कहा कि, जांच को लेकर राज्य सरकार से एक बार बात की जा सकती थी। ताम्रध्वज साहू ने ये भी कहा कि, हमारी पुलिस की जांच और दंडाधिकारी जांच दोनों हो रही है। हलांकि उन्होंने NIA पर सवाल उठाते हुए कहा है कि, एनआईए ने झीरम की भी जांच की थी आज तक कुछ पता नहीं चल पाया है।

ये भी पढ़ें: 8 नक्सलियों ने किया सरेंडर, 2015 से नक्सली संगठन के लिए करते थे काम

गौरतलब है कि पिछले महीने की 9 अप्रैल को नक्सलियों ने भीमा मंडावी के काफिले पर दंतेवाड़ा से लगे श्यामगिरी के बाजार के पास हमला कर उनकी हत्या कर दी। नक्सलियों ने IED ब्लास्ट किया था जिसमें विधायक मंडावी की मौत हो गई थी, साथ ही चार जवान भी शहीद हो गए थे। वहीं भीमा मंडावी की हत्या के बाद बीजेपी ने इसे साजिश करार दिया था और CBI जांच की मांग की थी।

Web Title : The Home Minister, on behalf of NIA investigating the murder of MLA, had to take permission from the state government

जरूर देखिये