बेटी की मौत के बाद बंद कर दिया था हुक्का पानी, महिला बाल विकास अधिकारियों ने सुलझाया मामला

 Edited By: Rupesh Sahu

Published on 20 Jun 2019 09:25 PM, Updated On 20 Jun 2019 09:25 PM

डिंडौरी । विकासखंड की ग्राम पंचायत पौड़ी माल में पिछले एक साल से समाज के ठेकेदारों ने एक परिवार का हुक्का पानी बंद कर दिया था । इस वजह से पीड़ित परिवार को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। गांव का कोई भी सदस्य परिवार के किसी भी व्यक्ति से बात नहीं करता था । सभी ग्रामवासियों को हुक्मरानों ने अपना आदेश सुना दिया था कि परिवार के किसी भी सदस्य से गांव का कोई भी सदस्य अगर बातचीत करता है या फिर अपने परिवारिक कार्य में आमंत्रित करता है तो उसका भी समाज से हुक्का पानी बंद कर दिया जाएगा ।

यह भी पढ़ें - निर्माणाधीन अंडरब्रिज के काम पर कलेक्टर ने लगाई रोक, 40 फीसदी से ज्...

वहीं पीड़ित उजीन लाल नागेश के परिवार को हर दिन अनेकों समस्याओं से जूझना पड़ रहा है । पीड़ित परिवार की महिला गायत्री बाई नागेश पूर्व में सांझा चूल्हा माध्यमिक शाला नए गांव में चलाती थी, हुक्का पानी बंद होने से उसकी रोजगार छिन गया है।

यह भी पढ़ें - केंद्र की प्रसाद योजना में शामिल डोंगरगढ़ को विकास के लिए मिलेंगे 50...

इस खबर को आईबीसी 24 न्यूज चैनल ने प्रमुखता से उठाया था। खबर का असर हुआ है और महिला एवं बाल विकास अधिकारी ने पीड़िता के घर पहुंचकर साथ ही समाज के लोगों से चर्चाकर मामले को सुलझाने की कोशिश की है। अधिकारियों की समझाइश के बाद समाज के लोगों ने नागेश के परिवार का फिर से हुक्का पानी शुरु करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में जल्द बैठक बुलाकर इसकी घोषणा करने का आश्वासन अधिकारियों को दिया है।

यह भी पढ़ें - विधानसभा के मानसून सत्र से पहले अहम बैठक, विपक्ष के नेताओं ने दिए स...

बता दें कि पीड़ित परिवार ने डिंडोरी कोतवाली पहुंचकर समाज के ठेकेदारों के खिलाफ शिकायत की थी । दरअसल डेढ़ साल पहले अजय नागेश की बेटी आरती नागेश 4 वर्ष की मृत्यु 7 फरवरी 2018 को कुएं में डूबने से हुई थी । मासूम की हत्या की आशंका ग्रामीणों सहित मृतक बच्ची के परिजनों ने जाहिर की थी । जिस पर पुलिस ने मामले को अपने संज्ञान मैं लेकर जांच शुरू कर देते 4 वर्षीय मासूम का पीएम जिला चिकित्सालय मे पदस्थ डॉक्टर के द्वारा किया गया था, जिसकी पीएम रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि 4 वर्षीय मासूम की मौत कुएं में डूबने के कारण हुई है । लेकिन ग्रामीणों का आरोप है कि बच्ची की मौत के पीछे नागेश परिवार ही जिम्मेदार है। दरअसल उजीन नागेश के परिवार में उसकी 6 बेटियां और हैं। जिनमें से दो बच्चियों के हाथ पीले हो चुके हैं वहीं 4 बच्चियां मालती, मनु, अनुराधा, मोहनी अपने माता- पिता के साथ घर पर ही निवासरत हैं। बेटियों की संख्या अधिक होने की वजह से ग्रामीण हत्या का शक नागेश परिवार पर करते हैं।  इसी वजह से नागेश के परिवार का हुक्का पानी ग्राम के प्रमुख लोगों ने कर रखा है।

Web Title : The hookah Pani was stopped after the daughter's death Case resolved by women child development officials

जरूर देखिये