3 राज्यों में सरकार बनाने वाली पार्टी 3 सीट पर सिमटी, आखिर क्या है वजह?

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 25 May 2019 10:32 PM, Updated On 25 May 2019 10:58 PM

रायपुर। लोकसभा चुनाव के नतीजों ने कांग्रेस में खलबली मचा दी है। पार्टी को इतनी करारी हार मिली कि नौबत कांग्रेस अध्यक्ष पद से राहुल गांधी के इस्तीफे तक पहुंच गई है। हालांकि कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने उनके इस्तीफे को नामंजूर कर दिया है। वहीं दूसरी ओर जिस बीजेपी का 5 महीने पहले तीन राज्यों से लगभग सफाया हो गया था। वो इतनी तेजी से उभरेगी, ये तो खुद बीजेपी के उम्मीदवारों ने भी कल्पना नहीं की थी, खासतौर छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को समझ ही नहीं आ रहा कि कहां चूक हुई है।

ये भी पढ़ें: विजय माल्या को एक और बड़ा झटका, डिआजियो कंपनी को देना होगा 945 करोड़ रुपये

लोकसभा चुनाव में मोदी की सुनामी में 52 सीटों पर सिमटी कांग्रेस अब हार के मंथन में जुट गई है। शनिवार को दिल्ली में कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में हार के कारणों की समीक्षा हुई। तीन घंटे से अधिक देर तक चली बैठक में राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश की। जिसे CWC ने नामंजूर करते हुए कहा कि पार्टी को राहुल के मार्गदर्शन और नेतृत्व की जरूरत है।

ये भी पढ़ें: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर नरेंद्र मोदी ने पेश किया सरकार बनाने का 

दूसरी ओर विधानसभा चुनाव में 15 सीटों पर सिमटने के बाद लोकसभा में 11 में से 9 सीट जीतने के बाद बीजेपी काफी उत्साहित है। राहुल गांधी के इस्तीफे और कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि जब तक कांग्रेस में वंशवाद है, तब तक पार्टी का यही हाल होगा।

ये भी पढ़ें: NDA सरकार का सुप्रीम कोर्ट को लिखित जवाब, कहा- खारिज हो राफेल मामले से जुड़ी सभी 

लिहाजा लगातार दो लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अपना प्रदर्शन सुधार नहीं पाई है। 2014 में कांग्रेस 44 सीटें जीती थी। इस बार उसे 8 सीटों का फायदा हुआ। लेकिन मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जहां पांच महीने पहले पार्टी ने बेहतर प्रदर्शन किया था। वहां भी कांग्रेस को करारी हार मिली। आखिर ऐसी कौन सी वजह रही, जिसकी वजह से जनता ने उन्हें नकार दिया। जाहिर है पार्टी के सामने सबसे बड़ी चुनौती यही है।

Web Title : The party that created the government in 3 states defeated 3 seats, what is the reason?

जरूर देखिये