देश की आन, बान और शान के लिए जान की बाजी, आईईडी ब्लास्ट होने के बाद भी जवानों ने फहराया तिरंगा

 Edited By: Abhishek Mishra

Published on 16 Aug 2019 12:14 PM, Updated On 16 Aug 2019 12:10 PM

सुकमा। नक्सल प्रभावित क्षेत्र कसलपाड़ गांव में तिरंगा फहराने निकले जवानों को आईईडी ब्लास्ट कर नक्सलियों ने रोकने का प्रयास किया। लेकिन नक्सलियों का नापाक मंसूबा कामयाब नहीं हुआ। जवान नक्सलियों की इस करतूत को नजर अंदाज कर आगे बढ़े और गांव में जाकर तिरंगा फहराया।

पढ़ें- बाढ़ में बह गई थी कार, दो शिक्षिका और चालक का शव बर...

ब्लास्ट से जवानों को किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ। आईईडी ब्लास्ट होने के बावजूद कोबरा 206 और सीआरपीएफ 150वीं बटालियन के जवानों ने मोर्चा संभाला और जवाबी कार्रवाई में फायरिंग करते हुए आगे बढ़ गए।

पढ़ें- लद्दाख में 'जश्न-ए-आजादी' का जश्न, पारंपरिक नृत्य क.

गांव पहुंचकर जवानों ने आजादी के प्रतीक तिरंगे को गांव में सुशोभित किया। जवानों की इस बहादुरी की जमकर प्रशंसा हो रही है। गांव वालों ने भी तिरंगे की आन, बान और शान के लिए जान की बाजी लगा देने वाले जवानों के जज्बे को सलाम किया।

सड़क हादसे में तीन लोगों की मौत

Web Title : The soldiers hoisted the tricolor even after the IED blast in sukma

जरूर देखिये