This decision of the education department became a problem for the teachers | शिक्षकों के लिए मुसीबत बना शिक्षा विभाग का ये फैसला, 50 की उम्र और 20 वर्ष की नौकरी वाले शिक्षकों पर मंडराया खतरा

शिक्षकों के लिए मुसीबत बना शिक्षा विभाग का ये फैसला, 50 की उम्र और 20 वर्ष की नौकरी वाले शिक्षकों पर मंडराया खतरा

Reported By: Shalini Hardia, Edited By: Anil Kumar Shukla

Published on 24 Aug 2019 03:31 PM, Updated On 24 Aug 2019 03:31 PM

इंदौर। शिक्षा विभाग के एक फैसले ने शिक्षकों के लिए परेशानी खड़ी कर दी है। स्कूल में शैक्षणिक कार्य नहीं करने और दूसरी जगह अटैचमेंट करवाकर विभाग से गायब रहने वाले शिक्षकों को शिक्षा विभाग ने तलब किया है। अब इन सभी शिक्षकों को यहां से हटाया जायेगा। इसमें 50 वर्ष उम्र और 20 साल की नौकरी पूरी कर चुके शिक्षकों की सेवानिवृत्ति किये जाने पर विचार किया जा रहा है।

read more: गृहमंत्री अमित शाह ने जेटली के निधन पर शोक जताया, कहा 'उनका जाना मेरे लिये एक व्यक्तिगत क्षति'

वहीं शिक्षा विभाग की मंशा ज़ाहिर हो जाने के बाद शिक्षकों में भी आक्रोश दिखाई दे रहा है। इंदौर में एक ओर जिला शिक्षा अधिकारी शिक्षकों का चयन कर अटैचमेंट से जुड़े शिक्षकों की जानकारी एकत्र कर जल्द शासन को भेजने की तैयारी में हैं। तो वहीं शिक्षकों की मिलीजुली प्रतिक्रिया भी सामने आ रही है। शिक्षक संघ आने वाले दिनों में बड़ा आंदोलन भी कर सकता है,लेकिन अभी सभी आदेश आने के इंतज़ार में है।

read more: शिक्षा विभाग की बड़ी लापरवाही, एक ही बीईओ का दो जगह किया तबादला, देखिए लिस्ट

शिक्षा विभाग की पैनी नज़र उन शिक्षकों पर बनी हुई है, जो शैक्षणिक कार्य नहीं करने और दूसरी जगह अटैचमेंट करवाकर विभाग में जमे हुए हैं। सूची तैयार कर पढ़ाई में रुचि नहीं रखने वाले शिक्षकों को हटाया जाएगा, साथ ही 50 वर्ष उम्र और 20 साल की नौकरी पूरी कर चुके शिक्षकों को भी इसमें शामिल किया जा रहा है। कई शिक्षक शिक्षा विभाग के इस फैसले का स्वागत कर रहे हैं तो इसमें जुड़े उम्र फैक्टर पर सवाल भी खड़ा कर रहे हैं।

read more: प्रधानमंत्री मोदी ने जेटली के निधन पर दुख जताया, पीएम ने कहा राजनीतिक दिग्गज थे जेटली

गौरतलब है कि छात्रों के भविष्य को सवांरने और क्वालिटी शिक्षा प्रदान करने के प्रयास को बेहतर तो माना जा रहा है, किन्तु शिक्षकों के विरोध ने इसे काम्प्लेक्स बना दिया है।

Web Title : This decision of the education department became a problem for the teachers

जरूर देखिये