आदिवासियों को अधिग्रहित जमीन लौटाई, ब्रिटिश संसद करेगी सीएम भूपेश बघेल का सम्मान

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 13 Mar 2019 02:56 PM, Updated On 13 Mar 2019 02:56 PM

रायपुर। बस्तर के लोहंडीगुडा में टाटा संयंत्र लगाने के लिए अधिग्रहित की गई जमीन का उपयोग न होने पर भूस्वामी आदिवासियों को लौटाने के छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार के विदेशी मीडिया में सराहना हुई थी।

अब ब्रिटिश संसद के दोनों सदन हाउस ऑफ कॉमंस एवं हाउस ऑफ लॉर्ड्स ने सीएम भूपेश को सम्मनित करने का का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ब्रिटिश संसद के दोनों सदनों को संबोधित भी करेंगे। ऐसा पहली बार होगा कि छत्तीसगढ़ का किसी मुख्यमंत्री का ब्रिटिश संसद में सम्मान होगा और वह संबोधित भी करेंगे।

यह भी पढ़ें : गंजेपन से छुटकारा पाने युवक ने कराया हेयर ट्रांसप्लांट, अनैफिलैक्सिक एलर्जी से मौत 

बता दें कि ब्रिटिश संसद ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को आमंत्रित करने के साथ ही प्रशस्ति पत्र भी भेजा है। यह प्रशस्ति पत्र जमीन लौटाने के फैसले के साथ ही नरवा, गरुआ, घुरुवा और बारी के कांसेप्ट को अमल में लाने के लिए दिया गया है। मुख्यमंत्री ने यह आमंत्रण स्वीकार कर लिया है। वे 19 मई को ब्रिटिश संसद को संबोधित करेंगे। मुख्यमंत्री ट्राईबल वेलफेयर मामले को और आगे बढ़ाने क्या किया जा सकता है, विषय पर संबोधित करें।

Web Title : Tribal people got returned land acquired British Parliament will honor CM Bhupesh Baghel

जरूर देखिये