नक्सली हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि, पार्थिव शरीर गृह ग्राम रवाना

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 28 Oct 2018 12:36 PM, Updated On 28 Oct 2018 12:36 PM

बीजापुर। बीजापुर नक्सल हमले में शहीद जवानों को रविवार सुबह माना स्थित चौथी बटालियन में सलामी देकर उनके पार्थिव शरीर को गृह ग्राम रवाना किया गया। छ्त्तीसगढ़ राज्य के गृह सचिव अमिताभ जैन, Dgp एएन उपाध्यय, स्पेशल dg एन्टी नक्सल ऑपरेशन समेत crpf और पुलिस विभाग के आला अधिकारियों ने जवानों को श्रद्धांजली दी।

पढ़ें- कांग्रेस के 37 प्रत्याशियों के ऐलान के बाद किन-किन सीटों पर किसका मुकाबला किससे.. देखिए एक नजर

बता दें की विधानसभा चुनाव के ठीक पहले नक्सलीयों ने बीजापूर जिले के आवापल्ली थाना क्षेत्र में बड़ी वारदात को अंजाम दिया। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के बीजापुर प्रवास के दो दिन पहले नक्सलियों ने मुरदंडा गांव के पास CPRF जवानों की एंटी लैंड माइन विह्कल को लैंड माइन से उड़ा दिया जिसमें रोड 168 बटालियन की ओपनिंग पार्टी में शामिल 1 ASI, 1 हेडकांस्टेबल और 2 कांस्टेबल शहीद हो गए जबकि दो जवान बुरी तहर घायल हो गए। इस घटना को इंटेलिजेंस की बड़ी चुक मानी जा रही क्योंकि विस्फोट CRPF कैंप के महज 800 मीटर की दूरी पर किया गया। सूत्रों के अनुसार विस्फोट उस समय किया गया जब जवान अपने घायल साथी का इलाज करवा कर वापस कैंप लौट रहे थे।

पढ़ें- कंपलसरी रिटायर्मेंट किए गए 9 जज वापस बुलाए गए, 16 जजों को किया गया था सेवा निवृत्त

स्पेशल डीजी एंटी नक्सल आपरेशन डीएम अवस्थी ने बताया की इस नक्सली हमले में पश्चिम बंगल के एएसआई मीर माहुक रहमान, ओडिसा के हेड कॉन्स्टेबल बीएम बेहरा, आंध्र प्रदेश से कॉन्स्टेबल गुलिपल्ली श्रीनू और सीएच प्रविण हुए शहीद हो गए। वहीं हमले को लेकर अवस्थी ने कहा की इसे किसी भी प्रकार का इंटेलीजेंस फेलियर नहीं हुआ है। घटना को चुनाव से जोड़ कर ना देखे क्योंकि य़हा इलाका बहुत संवेदनशील है और यहां लगातार नक्सल आपरेशन चलते रहते हैं और IED फोर्स के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है।

पढ़ें- रिपोर्ट, सीरिया से 3 गुना ज्यादा खतरनाक पाकिस्तान, आतंकियों का सबसे सुरक्षित पनाहगाह

वहीं नक्सलियों के इस हमाले के बारे में यह कहना गलत नहीं होगा की विधानसभा चुनाव से पहले नक्सलियों ने इस बड़ी घटना को अंजाम देकर अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई हैं। इस हमले के अलावा दोरनापाल में भी फोर्स की नक्सलियों से मुठभेंड़ हुई। दोरनापाल में जिस समय मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह आम सभा संबोधित कर रहे थे उस ठीक पहले भेज्जी में बोदराज पहाड़ के पास कोबरा 202 के जवान और नक्सलियों की मूठभेड़ चल रही थी। हालांकि इस मूठभेड़ में नक्सलियों को नुकसाल उठाकर भागना पड़ा।

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Tribute:

जरूर देखिये