छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन, दिवंगत नेताओं को दी गई श्रद्धांजलि

 Edited By: Abhishek Mishra

Published on 12 Jul 2019 11:48 AM, Updated On 12 Jul 2019 11:48 AM

रायुपर। छत्तीसगढ़ विधानसभा मानसून सत्र के पहले दिन नक्सली हमले में मारे गए दंतेवाड़ा के बीजेपी विधायक भीमा मंडावी, अविभाजित मध्यप्रदेश के पूर्व विधायक संतोष अग्रवाल, बलराम सिंह ठाकुर को श्रद्धांजलि दी गई। विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत के साथ नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और सीएम बघेल ने तीनों के निधन को अपूर्णीय क्षति बताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

पढ़ें- इस स्कूल में बच्चों के 'भारत माता की जय' बोलने पर प...

कौशिक ने कहा कि भीमा मंडावी वीर नायक के रूप में जाने जाएंगे। वे समाज के अंतिम व्यक्ति के रूप में कार्य करते रहे। सरकारी की योजनाओं का लाभ अपने इलाके में अधिक से अधिक दिलाने में लगे रहे। उन्होंने नक्सलियों की धमकी की कभी परवाह नहीं की। संतोष अग्रवाल को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए सीएम बघेल ने बताया कि वे सामाजिक धार्मिक राजनीति में सक्रिय थे। सीएम ने भीमा मंडावी के निधन को अपूर्णीय क्षति बताया। भीमा मंडावी की तारीफ करते हुए सीएम ने कहा कि वे एक अच्छे खिलाड़ी भी थे। वे सहज, सरल और मिलनसार व्यक्ति थे। सदन में सीएम की माता बिंदेश्वरी देवी को भी श्रद्धांजलि दी गई।

पढ़ें- कांग्रेस नेता के बेटे का जुआ खिलाते वीडियो वायरल, कार्यवाही ने नाम पर पुलिस के 

पूर्व सीएम और जनत कांग्रेस छत्तीसगढ़ के चीफ अजीत जोगी ने भी तीनों नेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित की। जोगी ने कहा कि संतोष अग्रवाल समाजिक रूप से जीवन भर सक्रिय रहे। आगे उन्होंने कहा कि सदन में भीमा मंडावी करीब बैठते थे, उस वक्त मैं उन्हें अच्छे से जाना ।
उनके अंदर आदिवासियों के प्रति कुछ करने की प्रबल इच्छा थी। दिवंगत बलराम सिंह के बारे में भी उन्होंने बयान दिया। बिलासपुर की राजनीति बलराम सिंह के बगैर अधूरी रही है। उनके जाने बाद बिलासपुर की राजनीति में वो बात नहीं रही ।सीएम बघेल की माता के निधन पर भी श्रद्धांजलि देते हुए उन्हें एक आदर्श माता बताया।

पढ़ें- टीपीएस कोल साइडिंग में नक्सलियों का उत्पात, 12 से ज्यादा वाहनों में 

4,500 करोड़ का अनुपूरक बजट होगा पेश 

 

 

Web Title : Tribute to the departed leaders on the first day of the monsoon session

जरूर देखिये