दो सरकारी कर्मचारी पहुंचे जेल एक की तलाश जारी, शार्टकट से अमीर बनने का खोजा था ये तरीका

Reported By: Rajkumar Sahu, Edited By: Rupesh Sahu

Published on 17 Apr 2019 08:51 PM, Updated On 17 Apr 2019 08:51 PM

जांजगीर- चाम्पा । यू-ट्यूब से देखकर कम वक्त में बड़ा आदमी बनने की फिराक में नकली नोट छापने वाले दो सरकारी कर्मचारी पुलिस की गिरफ्त में आए है। आरोपी संजय देवांगन और धनीराम को पामगढ़ पुलिस ने 1 लाख 2 हजार के नकली नोट के साथ गिरफ्तार किया है। जब्त नकली नोट में 5 सौ, 2 सौ और 50 के नोट शामिल हैं। मामले में 1 आरोपी ऋषि देवांगन फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है।

ये भी पढ़ें- बीजेपी- कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग, पीएम मोदी के खिलाफ दर्ज कराई ये शिकायत

नकली नोटों के कारोबार का भांडाफोड़ करते हुए पुलिस ने बताया कि एक आरोपी कर्मचारी, एडीजे कोर्ट में पोस्टेड है, दूसरा आरोपी स्वास्थ्य विभाग में वार्ड ब्वाय के रूप में कार्यरत है। सरकारी कर्मचारी होने के बावजूद और बेहतर जीवन यापन करने के लिए इन दोनों आरोपियों ने शार्टकट से बड़ा आदमी बनने का प्लान बनाया। दोनों ने आपसी सहमति से नकली नोट छापने का धंधा शुरु किया।

ये भी पढ़ें- योग-गुरु बाबा रामदेव का बड़ा बयान, राष्ट्र-विरोधी शक्तियां और इस्लामी देश मोदी को रोकने भेज

पुलिस की जानकारी के मुताबिक आरोपियों ने यू-ट्यूब से नकली नोट छापने का आसान तरीका सीखा और घर पर ही लेपटॉप और प्रिंटर की मदद से नोट छापने लगे । पुलिस ने पहले तहसील कार्यालय पामगढ़ के पास नोट खपाने की फिराक में घूम रहे एडीजे कोर्ट के कर्मचारी आरोपी धनीराम को नकली नोट के साथ पकड़ा, फिर उसकी निशानदेही पर घेराबंदी कर आरोपी वार्ड ब्वाय संजय देवांगन को गिरफ्तार किया, वहीं एक अन्य आरोपी ऋषि देवांगन की तलाश की जा रही है, जो कि प्रिंटिंग का उस्ताद बताया जा रहा है। गिरफ्तार दोनों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

Web Title : Two government employees arrive in jail This method was to be found to be rich with shortcuts

जरूर देखिये