महिला मानव अधिकार रक्षक अभियान ने मुक्त कराया घरेलू हिंसा पीड़ित महिला को

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 25 May 2019 03:00 PM, Updated On 25 May 2019 03:00 PM

कांकेर। जिले में एक घरेलू हिंसा का मामला सामने आया है। चारामा समीप ग्राम कसावाही में एक महिला को उसका पति नेही घर में बंधक बनाकर प्रताड़ित कर रहा था। यह सिलसिला करीब साल भर से चल रहा था। महिला मानव अधिकार रक्षक अभियान ने इसकी सूचना मिलते ही पुलिस और परिवार परामर्श केंद्र की मदद से महिला को मुक्त करवाया।

बताया जा रहा है कि कसावाही गांव निवासी मालती पटेल को उनका पति डोमर पटेल ने घर में बंधक बनाकर रखा था और प्रताड़ित करता था। स्थिति यह थी कि मालती के पैरों में बेड़ियां डालकर रखी जाती थी। सप्ताहभर पहले इसकी जानकारी महिला मानव अधिकार रक्षक अभियान की समन्वयिका कु. पूर्णिमा साहू और कांकेर की स्वयंसेविका याचना सिंहसार को मिली।

यह भी पढ़ें : मॉडल शहर के रुप में विकसित होगा छत्तीसगढ़ का अकलतरा, एनजीटी ने 163 नगरीय निकाय में से किया है 28 नगरों का चयन 

चूंकि तब अभियान की बैठक कांकेर में चल रही थी, इसलिए थोड़ा विलंब हुआ लेकिन याचना सिंहसार ने पुलिस निरीक्षक अमर सिंह कोमरे और परिवार परामर्श केंद्र का सहयोग लेते हुए मालती को उसके पति की यातना से मुक्त करवाया।  

Web Title : Women's rights campaign protects domestic violence victim woman

जरूर देखिये