''ताजमहल गुलामी की निशानी, गिराने में योगी सरकार का देंगे साथ''

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 04 Oct 2017 11:54 AM, Updated On 04 Oct 2017 11:54 AM

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री आजम खान अपने उल-जुलूल बयानों से हमेशा सुर्खियों में रहते हैं. इस बार मामला ताजमहल से जुड़ा है. आजम खान ने ताजमहल को गुलामी की निशानी बताते हुए उसे तोड़ने के लिए योगी सरकार का साथ देने की बात कही है.

खबर ये भी देखें- नकली इनकम टैक्स की रेड.. फिर ये हुआ..!

ताजमहल पर ये सियासत प्रदेश सरकार के पर्यटन विभाग की पुस्तिका से ताजमहल को हटाए जाने के बाद शुरू हुई है. आजम खान ने कहा- 'योगी जी ताजमहल गिराने चलेंगे तो मैं साथ चलूंगा। ताजमहल गुलामी की निशानी है।'

खबर ये भी देखें- दो पैग अंदर और प्रधानपाठक बन गया कलेक्टर !

आजम के घर पत्रकारवार्ता में आजम ने योगी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि पर्यटन विभाग की पुस्तिका से ताज महल को हटाए जाने के फैसले का हम स्वागत करते हैं, लेकिन यह फैसला बहुत देर से हुआ और अधूरा है। ताजमहल, कुतुबमीनार, दिल्ली का लाल किला, आगरा का किला, संसद भवन और राष्ट्रपति भवन गुलामी की निशानी हैं। ये चीजें रहनी ही नहीं चाहिए। मुगल हमारे भी पूर्वज नहीं हैं। कहां से आए थे मुगल। इतिहास को पढ़ने से मालूम होता है।

 

 

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक से ज़रुर जुड़े

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : "The sign of Taj Mahal slavery will be given to the Yogi government in the fall"

जरूर देखिये