प्रतिमाओं के विध्वंस पर गरमाई सियासत, देखें किसने क्या कहा ?

Reported By: Aman Verma, Edited By: Aman Verma

Published on 08 Mar 2018 04:57 PM, Updated On 08 Mar 2018 04:57 PM

नई दिल्ली। त्रिपुरा में चुनाव नतीजों के तुरंत बाद नई सरकार के शपथ लेने से पहले ही कम्युनिस्ट नेता लेनिन की प्रतिमा गिराई जाने के बाद से देश के कई हिस्सों से लगातार इसी तरह की घटनाओं के सामने आने से लोग स्तब्ध हैं। लेनिन की प्रतिमा गिराने को लेकर मीडिया, सोशल मीडिया पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आईं और इस पर बहस चल ही रही थी कि पश्चिम बंगाल के कोलकाता में भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ की खबर आ गई। अब इसे लेकर एक ओर जहां भारतीय जनता पार्टी सड़कों पर उतर आई है, वहीं दूसरी ओर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी सवाल कर रही हैं कि इस घटना के लिए उनकी पार्टी को क्यों दोष दिया जा रहा है? ममता बनर्जी ने कहा है कि जिसने भी श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाने का काम किया है, उसकी कड़ी निंदा होनी चाहिए। उन्होंने त्रिपुरा में लेनिन प्रतिमा के विध्वंस की भी कड़े शब्दों में आलोचना की।

 

 

उधर, तमिलनाडु में पेरियार की प्रतिमा को क्षति पहुंचाने और फिर केरल में महात्मा गांधी की प्रतिमा को भी नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई। कन्नूर में गांधी प्रतिमा से चश्मा गायब पाया गया है।

उत्तर प्रदेश के मेरठ में डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को भी नुकसान पहुंचाया गया, जिसके बाद वहां पुलिस बल की तैनाती की गई। अब बहुजन समाज पार्टी की नेता मायावती ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार से प्रतिमाओं की सुरक्षा की मांग की है। मायावती ने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर पहले से सख्ती बरती गई होती तो इस तरह की घटना सामने नहीं आती।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद इस तरह की घटनाओं की निंदा की है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी साफ कहा है कि उनकी पार्टी इस तरह के कृत्यों का समर्थन नहीं करती, ये भारत की संस्कृति नहीं है। हर राजनीतिक दलों के नेताओं ने ऐसी घटनाओं की आलोचना की है।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Harmonious politics on the demolition of statues, know full news

जरूर देखिये