NRC मुद्दे पर गृह मंत्री का बयान-जिनका नाम लिस्ट में नहीं उन्हें नागरिकता साबित करने का पूरा मौका

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 03 Aug 2018 03:06 PM, Updated On 03 Aug 2018 03:06 PM

नई दिल्ली। असम में NRC का ड्राफ्ट जारी होने के बाद मचे घमासान के बीच आज राज्यसभा में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने विपक्ष द्वारा लगाए गए भेदभाव के आरोपों को नकारते हुए NRC मुद्दे पर फिर सरकार का रुख साफ किया। गृहमंत्री ने कहा NRC की पूरी प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में चल रही हैं। इसमें किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं होगा। जिनके नाम इस लिस्ट में नहीं उनके पास भी नागरिकता साबित करने का पूरा मौका हैं। अभी 1971 से पहले देश में रह रहे नागरिकों के नाम शामिल किए हैं।

पढ़ें- मुजफ्फरपुर बालिका गृह दुष्कर्म मामला, सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को नोटिस भेज मांगा जवाब

 03-Aug

अन्य लोगों को मांगे गए वैध दस्तावेजों के साथ नागरिक रजिस्टर में शामिल किय़ा जाएगा। वहीं गृहमंत्री ने विपक्ष पर भी हमला बोला और कहा हुए NRC के मुद्दे पर देश में माहौल बिगाड़ने की कोशिश की जा रही हैं। कुछ लोग द्वारा देश में डर और गलतफहमियां फैलाई जा रही हैं जो कि गलत हैं।याद रखें देश की संप्रुभता के मामले पर सदन हमेशा एक रहा हैं। बता दें असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजंस के लिए करीब 3 करोड़ 30 लाख लोगों ने आवेदन किया जिसमें से 2 करोड़ 90 लाख लोगों को शामिल कर लिया गया हैं। जिन 40 लाख लोगों का नाम नहीं है। उन्हें नागरिकता साबित करने के लिए पर्याप्त मौका दिया जाएगा।

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Rajnath Singh On NRC:

ibc-24