In this way, you can make a balanced life, then do this work

इस तरह बना सकते हैं संतुलित जीवन, तो करें ये काम, ईश्वर का भी मिलेगा साथ

इस तरह बना सकते हैं संतुलित जीवन, तो करें ये काम, ईश्वर का भी मिलेगा साथ In this way, you can make a balanced life

Edited By: , August 12, 2022 / 06:20 AM IST

Balanced Life: इस सृष्टि में आने के साथ ही हमें अपनी बुनियादी जरूरतों के लिए कार्य करना होता है। दुनिया में सभी जीवों को आंतरिक रूप से कुछ क्रिया करने के लिए डिजाइन किया गया है। यहां तक कि छोटी सी चींटी को भी सक्रिय रहना पड़ता है। जीवन में परिस्थितियां हमें अलग-अलग भूमिकाएं सौंपती हैं।

हम जो काम करते हैं, वह आमतौर पर जीवन में हमारी भूमिका से परिभाषित होता है। हर भूमिका के साथ कुछ जिम्मेदारियां भी आती हैं। भगवद्गीता के अध्याय 3, श्लोक 8 में भगवान कृष्ण कहते हैं कि क्या आप अपने कर्तव्य का पालन करते हैं, क्योंकि कर्म अकर्म से श्रेष्ठ है। कर्म से हटकर तुम अपने शरीर को भी नहीं रख सकते।

‘कर्म’ शब्द संस्कृत मूल ‘क्रि’ से बना है, जिसका अर्थ है कुछ क्रिया करना। मानव शरीर का उद्देश्य कर्म करना है। कर्मों का मार्ग किसी के धर्म से निकटता से संबंधित है। धर्म कर्तव्य है। अपने कर्तव्य को पूरा करने के लिए कार्य करने से बहुत संतुष्टि मिलती है। दूसरी ओर, अपने कर्तव्यों को पूरा करने में असमर्थता आम तौर पर अपने साथ बहुत सारी परेशानियां लाती है।

Read more: 12 अगस्त वृश्चिक, मकर और मीन राशि वालों का आज बड़ा दिन, जानें क्या कहते हैं आपके सितारे 

Balanced Life: स्वस्थ शरीर बिना विचलित हुए आध्यात्मिक प्रगति में मदद करता है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि व्यक्ति अपने को साफ, सुपोषित और मजबूत रखे। गतिहीन जीवन शैली जीने से कई बीमारियां आती हैं। व्यायाम की कमी से मांसपेशियां बेकार हो जाती हैं और शरीर सुस्त हो जाता है। लंबे समय तक निष्क्रियता न केवल शरीर, बल्कि दिमाग के लिए भी हानिकारक होती है। मानसिक श्रम के बिना मन सुस्त और उत्साहहीन हो जाता है। काम बंद करने से व्यक्ति का पतन हो सकता है।

पने काम में शामिल हों लेकिन काम ऐसा हो, जिससे आपके मन में संतुष्टि और शांति आए। कोई भी कार्य पूर्ण विश्वास, एकाग्रता, क्षमता और भागीदारी के साथ किया जाना चाहिए। इससे ज्ञान का उदय और कौशल का विकास होता है।

एक व्यक्ति जो मन की संतुलित स्थिति का आनंद लेता है और ईमानदारी से सभी कर्तव्यों का पालन करता है वह आध्यात्मिक पूर्णता प्राप्त कर सकता है।

और भी लेटेस्ट और बड़ी खबरों के लिए यहां पर क्लिक करें