कांग्रेस-बीजेपी के उम्मीदवार तय लेकिन घोषणा में मंतू फैक्टर का साया, जानिए नाम | Chhattisgarh Assembly Election 2018 :

कांग्रेस-बीजेपी के उम्मीदवार तय लेकिन घोषणा में मंतू फैक्टर का साया, जानिए नाम

कांग्रेस-बीजेपी के उम्मीदवार तय लेकिन घोषणा में मंतू फैक्टर का साया, जानिए नाम

: , March 25, 2021 / 09:50 PM IST

रायपुर। छत्तीसगढ़ में चुनावी बिगुल बज चुका है और राजनीतिक दल अपनी तैयारियों में जुट गए हैं, लेकिन बीजेपी-कांग्रेस में उम्मीदवारों की घोषणा नहीं हो पाई है। ऐसा भी नहीं है, कि प्रत्याशी चयन में विवाद है, बल्कि दोनों दलों में मोटेतौर पर 18 सीटों के लिए उम्मीदवार तय हो चुके हैं, लेकिन घोषणा करने से बचने की कोशिश की जा रही है। दरअसल, छत्तीसगढ़ में मंतू फैक्टर का साया है। कांग्रेस को डर है कि पहले से उम्मीदवार घोषित करने से तोड़-फोड़ न हो जाए, जबकि बीजेपी जीतऊ कैंडिडेट मिलने पर प्रत्याशी बदलने या नाराजगी का रिस्क लेने की स्थिति में नहीं है। जिसके कारण दोनों पार्टियों ने रणनीति बनाई है कि नामांकन दाखिल के आखिरी दिन यानी 23 तारीख से एकाध दिन पहले ही प्रत्याशियों की घोषणा की जाएगी, ताकि उठापटक की स्थिति निर्मित न हो। ऐसे में 20-22 अक्टूबर के आसपास ही दोनों दल अपनी सूची जारी कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें-कांग्रेस ने जारी की 40 स्टार प्रचारकों की सूची, सोनिया-राहुल समेत प्रदेश के नेताओं के नाम

उल्लेखनीय है कि भाजपा प्रदेश चुनाव समिति की मंगलवार रात मैराथन बैठक हुई। भाजपा ने पहले चरण की 18 सीटों के लिए अपने उम्मीदवार तय कर लिए हैं, लेकिन नामों का ऐलान 20 अक्टूबर या उसके बाद किए जाने की संभावना जताई जा रही है। बीजेपी के सूत्रों के मुताबिक राजनांदगांव से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का सिंगल नाम है। जबकि अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस को झटका देने वाले मंतूराम पवार को अंतागढ़ से उतारने पर सहमति बनी है। इसी तरह नारायणपुर से केदार कश्यप, बीजापुर से महेश गागड़ा, कांकेर से हीरा मरकाम, कोंडागांव से लता उसेंडी के नाम हैं। इसके साथ बाकी सीटों पर पहला नाम तय किए गए हैं। लेकिन विकल्प के तौर पर एक नाम और जोड़ा गया है। ऐसी सीटों में डोंगरगढ़ से राजेश खांडेकर या विनोद खांडेकर, खैरागढ़ से विक्रांत सिंह या कोमल जंघेल, डोंगरगांव से नीलू शर्मा या डॉ. नीरेंद्र साहू, खुज्जी से राजिंदर भाटिया या मधुसूदन यादव, मोहला मानपुर संजीव शाह या शिवराज उसारे, अंतागढ़ से मंतुराम पवार, भानुप्रतापपुर से परमानंद टेटे या ब्रम्हानंद नेताम, केशकाल से रामेश्वर उसेंडी या महाप्राण पुरोहित, बस्तर से दिनेश कश्यप या जबिता मंडावी, जगदलपुर से संतोष बाफना या कमलचंद भंजदेव, चित्रकोट से बैदूराम कश्यप या लच्छू कश्यप, दंतेवाड़ा से डैदु टाटी या भीमा मंडावी, कोंटा से सौयम मुक्का या मौसमी मट्टी के नाम तय हुए हैं।

ये भी पढ़ें-हेलीकॉप्टर कंपनी छत्तीसगढ़ में तलाश रही संभावना ,तीन कंपनी ने माँगा स्पेस

बीजेपी के नेता कांग्रेस की सूची आने का इंतजार कर रहे हैं। इस स्थिति में नामों में बदलाव कर विकल्प वाला कोई नाम तय किए जाने में आसानी होगी। ऐसे किसी मामले पर केंद्रीय समिति विचार कर नाम तय करेगी। आखिरी क्षणों में हालात के हिसाब से नामों में बदलाव संभव है।

ये भी पढ़ें-तीन भाजपा नेताओं ने अमर अग्रवाल के खिलाफ फूंका बगावत का बिगुल,कहा-बिलासपुर से बदलें उम्मीदवार

मुख्यमंत्री ने संकेत दिए हैं कि 19 या 20 अक्टूबर को प्रत्याशियों के नाम डिक्लियर हो जाएंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि उम्मीद है कि पहली बैठक में ही 70 से 75 प्रत्याशियों के नाम फाइनल हो जाएंगे। सीएम रमन  ने कहा कि अधिकांश सीटों पर पैनल बनाकर ही सेंट्रल इलेक्शन कमिटी को भेजा जाएगा। मुख्यमंत्री सहित भाजपा के शीर्ष नेता 18 अक्टूबर को होने वाले केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में शामिल होने के लिए दिल्ली जाएंगे। उसी दिन शाम में केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक भी होनी है।

ये भी पढ़ें-सड़क हादसे में 10 श्रदालुओं की मौत, देवी दर्शन करके लौट रहे थे, ट्रक से भिड़ंत

इसी तरह कांग्रेस ने भी अपने उम्मीदवारों के नाम तय कर लिए हैं, लेकिन अंतागढ़ प्रकरण में जिस तरह से कांग्रेस की फजीहत हुई थी, उससे बचने के लिए कांग्रेस ऐनवक्त पर उम्मीदवार के नाम घोषित करने के मूड में है। हाल ही कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और पाली तानाखार के विधायक रामदयाल उइके बीजेपी में शामिल हो गए हैं। इसी तरह कांग्रेस के कुछ और विधायक पलटी मार सकते हैं। इस तरह की सौदेबाजी के किस्से और आडियो भी आने लगे हैं, लिहाजा कांग्रेस ने भी पैनल का पेंच फंसाकर उम्मीदवारों की तोड़फोड़ से बचाने में लगी हुई है। जानकारों के मुताबिक पहले चरण की 18 सीटों में से बीजापुर से विक्रम मंडावी, नारायणपुर से चंदन कश्यप, खैरागढ़ से गिरवर जंघेल, डोंगरगांव से दलेश्वर साहू या विभा साहू, खुज्जी से भोलाराम साहू, मोहला मानपुर से तेजकुंवर नेताराम, भानुप्रतापपुर से मनोज मंडावी या बिरेश सिंह ठाकुर कांकेर से शिशुपाल सोरी, केशकाल से संतराम नेताम, कोंडागांव से मोहनलाल मरकाम, बस्तर से लखेश्वर बघेल, चित्रकोट से दीपक कुमार बैज, दंतेवाड़ा से देवती कर्मा, कोंटा से कवासी लाखमा डोंगरगढ़ से थानेश्वर पाटिला या धनेश पाटिल, अंतागढ़ से सुभद्रा सलाम, जगदलपुर से सामू कश्यप या जतिन जायसवाल और राजनांदगांव से जितेंद्र मुदलियार या मोतीलाल वोरा के नाम पर सहमति बना ली गई है।

वेब डेस्क IBC24

 

 

#HarGharTiranga