कर्ज वसूली से बचने के लिए की मौसी और उसके बेटे की नहर में डुबोकर हत्या |

कर्ज वसूली से बचने के लिए की मौसी और उसके बेटे की नहर में डुबोकर हत्या

कर्ज वसूली से बचने के लिए की मौसी और उसके बेटे की नहर में डुबोकर हत्या

: , June 30, 2022 / 05:26 PM IST

मथुरा (उप्र), 30 जून (भाषा) उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में एक युवती ने कर्ज के तौर पर चार लाख रुपयों की वसूली से बचने के लिए कथित तौर पर अपने प्रेमी की मदद से अपनी मौसी तथा मौसेरे भाई को नहर में डुबाकर मार डाला। पुलिस ने करीब तीन महीने की मशक्कत के बाद घटना का खुलासा कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

पुलिस अधीक्षक (नगर) मार्तण्ड प्रकाश सिंह ने बृहस्पतिवार को बताया कि करीब तीन महीने पहले पुलिस को मांट क्षेत्र में माला देवी नामक महिला और राया इलाके में उसके बेटे विनय का शव मिला था। दोनों की मृत्यु डूबने से हुई थी।

उन्होंने बताया कि मृत महिला की मां ने पुलिस में दर्ज रिपोर्ट में कहा था कि उसकी बेटी माला देवी अपने पति सतीश फौजी की मृत्यु के बाद मथुरा के इंदुपुरम कॉलोनी में उनके साथ रह रही थी।

सिंह ने बताया कि माला देवी 18 मार्च को अपने पुत्र विनय के साथ अपनी जेठानी की एक रस्म में शिरकत के लिए देहरादून गई थी और वहां से 24 मार्च को मथुरा के लिए निकली थी, मगर घर नहीं पहुंची। उन्होंने कहा कि उसका फोन भी बंद आ रहा था।

सिंह के अनुसार, माला की मां का कहना था कि उसकी दूसरी बेटी की पुत्री नेहा ने माला देवी से मकान खरीदने के लिए चार लाख रुपये उधार लिये थे, मगर वह उन्हें लौटा नहीं रही थी तथा मांगने पर वह एवं उसका कथित प्रेमी योगेश कुशवाहा उससे झगड़ते थे।

उन्होंने बताया कि माला की मां का आरोप था कि नेहा और उसके प्रेमी ने ही संपत्ति अपने नाम कराने के उद्देश्य से बेटी और उसके पुत्र को अगवा कर लिया है।

सिंह ने बताया कि इस मामले में नेहा और योगेश को गिरफ्तार कर लिया गया है। सिंह के अनुसार, पूछताछ में नेहा ने बताया कि वह और योगेश करीब चार वर्ष से एक-दूसरे को जानते हैं और उसके नाना-नानी और मौसी माला देवी उस पर योगेश से शादी का दबाव बनाते थे, जबकि योगेश पहले से शादीशुदा था।

पुलिस अधीक्षक (नगर) के मुताबिक नेहा ने बताया कि उसने प्रेमी योगेश, उसके साथी राकेश फौजी और इमरान के साथ मिलकर योजना बनायी कि माला की हत्या कर दी जाए तो उसे अपना कर्ज वापस नहीं करना पड़ेगा और उसके मेरठ स्थित घर को बेचकर वे रकम आपस में बांट लेंगे। माला देवी ने पति की मृत्यु के बाद मिले 12 लाख रुपये एक वकील को व्यापार के लिए दिए थे। जिन्हें वह वापस नहीं लौटा रहा था। वे चारों उसे देहरादून से वापसी के समय यह कहकर मथुरा ले गये कि उन्होंने उस वकील को पकड़ लिया है।

उन्होंने बताया कि योगेश ने माला देवी को मथुरा के एक होटल में ठहराया और योजना के अनुसार माला को वकील से मिलाने के बहाने राया ले जाकर, जबकि उसके बेटे विनय को मांट में गंगनहर में डुबोकर मार डाला।

सिंह ने बताया कि पुलिस ने नेहा और योगेश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है जबकि उनके फरार साथियों राकेश और इमरान की तलाश की जा रही है।

भाषा सं. सलीम सुरेश

सुरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

#HarGharTiranga