शीर्ष न्यायालय के आदेश के बाद ताजमहल के निकट करीब 500 दुकानदारों को कारोबार ठप होने का अंदेशा |

शीर्ष न्यायालय के आदेश के बाद ताजमहल के निकट करीब 500 दुकानदारों को कारोबार ठप होने का अंदेशा

शीर्ष न्यायालय के आदेश के बाद ताजमहल के निकट करीब 500 दुकानदारों को कारोबार ठप होने का अंदेशा

: , November 29, 2022 / 08:59 PM IST

आगरा (उप्र), 29 सितंबर (भाषा) ताजमहल के 500 मीटर के दायरे के भीतर सभी तरह की व्यावसायिक गतिविधियों को बंद करने के उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद क्षेत्र के दुकान मालिक अपने कारोबार के भविष्य को लेकर अनिश्चय की स्थिति में हैं।

क्षेत्र में मौजूद करीब 500 रेस्तरां, एंपोरियम, किफायती होटल, कैफे और अन्य कारोबारी संस्थान शीर्ष अदालत के इस फैसले से प्रभावित हो सकते हैं। उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को आगरा विकास प्राधिकरण (एडीए) को ताजमहल के 500 मीटर के दायरे के भीतर व्यावसायिक गतिविधियों पर रोक लगाने का निर्देश दिया।

एडीए के उपाध्यक्ष, चरचित गौर ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘हमने व्यवसायों के सर्वेक्षण की प्रक्रिया शुरू कर दी है और सर्वेक्षण पूरा होने के बाद हम व्यवसायों की पहचान करेंगे और उच्चतम न्यायालय के आदेश के अनुसार कार्य करेंगे।’’

शीर्ष अदालत का यह आदेश उन 71 दुकानदारों के आवेदन के जवाब में आया था, जिन्होंने आरोप लगाया था कि उन्हें वर्ष 1993 में पश्चिमी गेट के पास से हटा दिया गया था, जबकि अन्य व्यावसायिक गतिविधियां जारी रहीं।

बुधवार को स्थानीय लोगों और कारोबारियों ने आगे की योजना को लेकर बैठक की। दक्षिणी गेट के पास रहने वाले हाजी ताहिर उद्दीन ताहिर ने पीटीआई-भाषा को बताया कि शीर्ष अदालत के आदेश से लगभग 40,000 से 50,000 लोग प्रभावित होंगे क्योंकि ताजगंज इलाके की दुकानों, कारखानों और होटलों के कर्मचारी अपनी नौकरी खो देंगे।

उन्होंने कहा कि हम उपलब्ध कानूनी विकल्पों की तलाश करेंगे और इन लोगों के लिए एकजुट होकर लड़ेंगे। ताहिर ने कहा कि ये दुकानें कई दशकों से चल रही हैं और ताजमहल के समय में स्थापित की गई हैं।

ताजमहल के पश्चिमी द्वज्ञश्र पर अपनी दुकान चलाने वाले एक दुकानदार ने कहा कि हम जैसे-तैसे कोविड-19 महामारी के प्रभावों से उबर पाए और अपने व्यवसाय को चलाने की कोशिश करने लगे। दुकानदार ने कहा, ‘‘अब सोमवार से ही समझ नहीं आ रहा है कि क्या करें। मेरी दुकान में सात कर्मचारी हैं और हम सभी बेरोजगार हो जाएंगे क्योंकि हमारे पास अपना घर चलाने के लिए कोई अन्य विकल्प नहीं होगा।’’

एक दुकानदार सुनील श्रीवास्तव, जिनकी दुकान ताजमहल के पूर्वी द्वार पर स्थित है, ने कहा कि इस आदेश से लगभग 40,000 से 50,000 लोगों की आजीविका प्रभावित होगी जो इन व्यावसायिक गतिविधियों पर निर्भर हैं। उन्होंने कहा, ‘‘वे बेरोजगार हो जाएंगे और उनके पास अपना घर चलाने का कोई दूसरा विकल्प नहीं होगा।’’

भाषा सुरभि माधव

माधव

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)