एफबीआई ने ट्रंप के मार-ए-लागो एस्टेट और क्लब पर की छापेमारी, तिजोरी तोड़ी |

एफबीआई ने ट्रंप के मार-ए-लागो एस्टेट और क्लब पर की छापेमारी, तिजोरी तोड़ी

एफबीआई ने ट्रंप के मार-ए-लागो एस्टेट और क्लब पर की छापेमारी, तिजोरी तोड़ी

: , August 9, 2022 / 05:38 PM IST

(ललित के. झा)

वाशिंगटन, नौ अगस्त (भाषा) संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) ने फ्लोरिडा में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निजी क्लब और ‘मार-ए-लागो एस्टेट’ पर छापेमारी की। एफबीआई ने राष्ट्रपति कार्यालय से जुड़े दस्तावेजों, जिसमें गोपनीय सामग्री शामिल है, के रखरखाव से जुड़ी जांच के तहत एक तिजोरी को तोड़ा, जिस पर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति गुस्से से बिफर पड़े। ट्रंप ने इसे वर्ष 2024 में व्हाइट हाउस पहुंचने की उनके प्रयासों में अडंगा लगाने वाला करार दिया।

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि फ्लोरिडा के उनके घर में तलाशी चल रही है। उन्होंने कहा, ‘‘यह हमारे देश के लिए बुरा दौर है क्योंकि फ्लोरिडा के पाम बीच में मार-ए-लागो के मेरे खूबसूरत घर पर एफबीआई एजेंट के एक बड़े समूह ने घेराबंदी की, छापा मारा और उसे कब्जे में ले लिया है। अमेरिका के किसी राष्ट्रपति के साथ पहले ऐसा कुछ कभी नहीं हुआ।’’

अमेरिकी मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार एफबीआई की तलाशी 15 संदूकों में रखे गये उन दस्तावेजों से संबंधित थी जो ट्रम्प जनवरी 2021 में व्हाइट हाउस छोड़ने पर मार-ए-लागो में ले गए थे , जिनमें से कुछ दस्तावेज को राष्ट्रीय अभिलेखागार ने गोपनीय दस्तावेज के रूप में चिह्नित किया था।

न्याय विभाग और एफबीआई ने फिलहाल छापेमारी पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। ट्रंप ने कहा, ‘‘संबंधित सरकारी एजेंसियों के साथ पूरा सहयोग करने के बावजूद, मेरे घर पर बिना बताए छापा मारना उचित नहीं है।’’

दरअसल, अमेरिका का न्याय मंत्रालय इस बात की तफ्तीश कर रहा है कि क्या ट्रंप ने 2020 में व्हाइट हाउस छोड़ने के बाद अपने फ्लोरिडा स्थित आवास पर गोपनीय रिकॉर्ड छिपाए हैं।

ट्रंप ने कहा, ‘‘उन्होंने मेरी तिजोरी तक तोड़ दी। इसमें और वाटरगेट में क्या फर्क है….।’’

एफबीआई ने ट्रंप के घर पर ऐसे वक्त में छापा मारा है जब वह 2024 में राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए अपनी दावेदारी पेश करने की तैयारी कर रहे हैं।

ट्रंप (76) ने आरोप लगाया कि ऐसा हमला केवल तीसरी दुनिया यानी गरीब और विकासशील देशों में ही हो सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘दुखद रूप से अमेरिका उन देशों में से एक बन गया है, पहले इस स्तर का कदाचार नहीं देखा गया।’’

उन्होंने आरोप लगाया कि यह राजनीतिक रूप से निशाना बनाने की कार्रवाई है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं अमेरिकी लोगों के लिए लड़ाई लड़ता रहूंगा।’’

गौरतलब है कि ट्रंप अमेरिकी संसद भवन पर छह जनवरी 2021 को हमला करने वाली भीड़ को कथित तौर पर भड़काने के एक अन्य मामले में भी जांच का सामना कर रहे हैं।

गत फरवरी में राष्ट्रीय अभिलेखागार ने न्याय विभाग से कहा था कि वह ट्रम्प प्रशान में व्हाइट हाउस के दस्तावेजों के रखरखाव की जांच करे।

राष्ट्रीय अभिलेखागार ने इसके पहले कहा था कि ट्रंप के मार-ए-लागो रिसॉर्ट से कम से कम 15 बक्से बरामद किए गए थे, जिसमें व्हाइट हाउस के दस्तावेज थे और जिनमें से कुछ दस्तावेज गोपनीय थे।

भाषा संतोष नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)