भारतीय मूल के समाजसेवी डॉ. इम्तियाज सुलेमान को ‘साउथ अफ्रीकन ऑफ द ईयर’ चुना गया |

भारतीय मूल के समाजसेवी डॉ. इम्तियाज सुलेमान को ‘साउथ अफ्रीकन ऑफ द ईयर’ चुना गया

भारतीय मूल के समाजसेवी डॉ. इम्तियाज सुलेमान को ‘साउथ अफ्रीकन ऑफ द ईयर’ चुना गया

: , December 25, 2021 / 08:16 PM IST

( फाकिर हसन )

जोहानिसबर्ग, 25 दिसंबर (भाषा) भारतीय मूल के समाजसेवी और आपदा राहत संगठन ‘गिफ्ट ऑफ द गिवर्स’ के संस्थापक डॉ. इम्तियाज सुलेमान को ‘डेली मेवरिक’ अखबार द्वारा संचालित प्रतिष्ठित ‘साउथ अफ्रीकन ऑफ द ईयर’ पुरस्कार के लिए चुना गया है।

दक्षिण अफ्रीका और देश से बाहर के लोगों ने सुलेमान के लिए वोट किया। उप मुख्य न्यायाधीश रेमंड जोंडो दूसरे स्थान पर रहे। जोंडो ‘कमिशन ऑफ इन्क्वायरी इनटू स्टेट कैप्चर’ के प्रमुख हैं। यह आयोग सरकारी विभागों सहित सार्वजनिक क्षेत्र में धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार की जांच करता है।

सुलेमान ने शुक्रवार को केप टाउन में अल कुद्स मस्जिद में अपने स्वीकृति भाषण में दुनिया भर के मुसलमानों से इस्लाम को लेकर पूर्वाग्रह की धारणाओं को बदलने के लिए सभी समुदायों के प्रति विनम्र नजरिया अपनाने का आह्वान किया। वर्ष 1994 में तुर्की में उनके धार्मिक गुरु द्वारा ऐसा करने के लिए प्रेरित करने के बाद सुलेमान ने ‘गिफ्ट ऑफ द गिवर्स’ की शुरुआत की। सुलेमान ने उन संगठनों की निंदा की जो केवल मुस्लिम देशों में राहत प्रयासों का समर्थन करते हैं।

तब से परमार्थ और राहत संगठन ने 44 से अधिक देशों में भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं के साथ-साथ युद्धग्रस्त देशों में लोगों की सहायता और राहत कार्य किया। पश्चिम एशिया, पूर्वी यूरोप और अफ्रीका के कई देशों के अलावा ‘गिफ्ट ऑफ द गिवर्स’ की टीम ने भारत और पाकिस्तान में भी प्राकृतिक आपदाओं के दौरान सहायता की।

सुलेमान को उनके कार्यों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी मान्यता मिली है, उन्हें कई पुरस्कार मिले हैं, संकट के समय में उनके संगठन द्वारा सहायता किए जाने के लिए दक्षिण अफ्रीका एवं विदेशी राष्ट्राध्यक्षों से उन्हें सराहना मिलती है। सुलेमान को दक्षिण अफ्रीका का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘नेशनल ऑर्डर’ भी मिला है और इस साल की शुरुआत में पश्चिमी केप प्रांत में स्टेलनबोश विश्वविद्यालय ने उन्हें ‘सोशल जस्टिस चैम्पियन’ नामित किया था।

भाषा सुरभि उमा

उमा

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

#HarGharTiranga