टोंगा के निकट समुद्र में ज्वालामुखी फटा, द्वीपवासी सुनामी की लहरों से बचने के लिए तट से दूर गए

टोंगा के निकट समुद्र में ज्वालामुखी फटा, द्वीपवासी सुनामी की लहरों से बचने के लिए तट से दूर गए

Edited By: , January 15, 2022 / 06:36 PM IST

वेलिंगटन (न्यूजीलैंड), 15 जनवरी (एपी) टोंगा के पास समुद्र के अंदर ज्वालामुखी फटने के बाद शनिवार को तट की ओर बढ़ती विशाल लहरों को देखा गया, जिनसे बचने के लिए लोग ऊंचे स्थानों पर जाते नजर आए।

इन लहरों के कारण नुकसान कितना हुआ है और किसी के हताहत होने की भी फिलहाल कोई जानकारी नहीं मिली है। इसका कारण यह है कि इस छोटे देश के साथ संपर्क एवं संचार सेवाएं उतनी अच्छी नहीं हैं। सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए वीडियो में बड़ी लहरें तटीय क्षेत्रों में घरों और इमारतों के चारों को दिख रही हैं।

न्यूजीलैंड की सेना ने बताया कि वह हालात पर नजर रख रही है और जरूरत पड़ने पर यदि उसकी सहायता मांगी जाती है, तो वह तैयार है।

उपग्रह से ली गई तस्वीर में दिख रहा है कि प्रशांत महासागर के नीले पानी के ऊपर मशरूम के आकार में राख, भाप और गैस का गुबार उठ रहा है।

टोंगा मौसम विज्ञान सेवा ने बताया कि पूरे टोंगा के लिए सुनामी की चेतावनी लागू की गई है और प्रशांत सुनामी चेतावनी केंद्र के आंकड़ों ने 80 सेंटीमीटर ऊंची लहरों का पता लगाया गया है। निकटवर्ती फिजी और समोआ में भी प्राधिकारियों ने चेतावनी जारी की है और लोगों को मजबूत एवं खतरनाक लहरों के मद्देनजर समुद्रतट के निकट जाने से बचने की हिदायत दी है।

जापान की मौसम विज्ञान एजेंसी ने बताया कि जापान के तट के नजदीक जलस्तर में हल्की वृद्धि हो सकती है लेकिन इससे नुकसान होने की उम्मीद नहीं है।

‘आइलैंड बिजनेस’ समाचार साइट ने बताया कि पुलिस और सैन्य बलों के एक काफिले ने टोंगा के राजा टुपो षष्ठम को समुद्र तट के पास स्थित उनके महल से बाहर निकाला। राजा टुपो षष्ठम समेत कई निवासियों को ऊपरी इलाकों में ले जाया गया है।

टोंगा के हंगा टोंगा हंगा हापाई ज्वालामुखी में यह विस्फोट हुआ है।

डॉ. फाकाइलोएटोंगा ताउमोएफोलाउ नामक एक ट्विटर यूजर ने एक वीडियो साझा किया है, जिसमें लहरें किनारे को पारकर रिहायशी क्षेत्र में जाती दिख रही हैं।

उसने लिखा, ‘‘ज्वालामुखी फटने की आवाज को वास्तव में सुन सकता हूं, यह बहुत उग्र लग रहा है।’’

उसने लिखा, ‘‘राख और छोटे-छोटे कंकड़ बरस रहे हैं, आसमान में अंधकार छा गया है।’’

इससे पहले, ‘माटांगी टोंगा’ समाचार साइट ने बताया कि वैज्ञानिकों ने शुक्रवार तड़के ज्वालामुखी के सक्रिय होने के बाद जबर्दस्त विस्फोट, गरज और बिजली गिरने की घटनाएं देखीं।

उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों में धुएं का गुबार आसमान में लगभग 20 किलोमीटर (12 मील) की ऊंचाई तक उठता दिख रहा है। वहीं, 2,300 किलोमीटर (1,400 मील) से अधिक दूरी पर स्थित न्यूजीलैंड में अधिकारियों ने विस्फोट से तूफान आने की चेतावनी दी है।

‘नेशनल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी’ ने कहा कि बड़े ज्वालामुखी विस्फोट के बाद न्यूजीलैंड के कुछ हिस्सों में तटों पर ‘‘मजबूत और असामान्य लहरें अप्रत्याशित उछाल से साथ आ सकती हैं।’’

शनिवार को प्रशांत सुनामी चेतावनी केंद्र ने बताया कि लगता है कि अमेरिकी सामोआ पर सुनामी का खतरा टल गया है , हालांकि, समुद्र में हल्के उतार-चढ़ाव जारी रहेंगे।

यह ज्वालामुखी राजधानी नुकुअलोफा से लगभग 64 किलोमीटर (40 मील) उत्तर में स्थित है।

इससे पहले, 2014 के अंत में और 2015 की शुरुआत में इस इलाके में ज्वालामुखी विस्फोटों की एक श्रृंखला के कारण एक छोटा नया द्वीप बना था और प्रशांत द्वीपसमूह राष्ट्र के लिए अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा कई दिनों तक बाधित रही थी।

टोंगा में करीब 1,05,000 लोग रहते हैं।

एपी धीरज दिलीप

दिलीप