कानपुर हिंसा : एसआईटी ने किया चौंकाने वाला खुलासा, बताई यहां थी हिंसा की जड़ें

कानपुर में जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा में कई बड़े राज खुलकर अब सामने आ रहे हैं इसी बीच एसआईटी की जांच ने चौकानें वाला खुलासा किया है।

Edited By: , June 23, 2022 / 02:00 PM IST

कानपुर में जुमे की नमाज के बाद 3 जून को हुई हिंसा में कई बड़े राज खुलकर अब सामने आ रहे हैं। इसी बीच एसआईटी की जांच ने चौकानें वाला खुलासा किया है। कानपुर में सड़क पर हुए पत्थराव का कनेक्शन सीधा पाकिस्तान से बताया जा रहा है। नूपुर शर्मा की टिप्पणी को लेकर भारत की विश्व पटल पर कई दिनों से हिंसा की चिंगारी लगी हुई है, जो कि अब तक बुझने का नाम नहीं ले रही। कानपुर में नमाज के बाद हुए बवाल का कनेक्शन पाकिस्तान में बैठे आकाओं द्वारा बताया जा रहा है।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

आपको बता दें कि जिस वक्त कानपुर में उपद्रवी भीड़ बवाल कर रही थी, उस समय कुख्यात हिस्ट्रीशीटर अकील खिचड़ी अपने मोबाइल फोन से पाकिस्तानी आकाओं के संपर्क में था। इस हिंसा के बाद से हिस्ट्रीशीटर अतीक फरार है। इस खुलासे के बाद एसआईटी और सख्त हो गई, और अब इस उपद्रवी में पाकिस्तानी कनेक्शन खंगाल रही है। वहीं ऐसा बताया जा रहा है कि एसआईटी को उसका कनेक्शन बाबा बिरयानी के मालिक मुख्तार बाबा से भी मिल रहा है।

यह भी पढ़ें : छात्रों को बड़ा झटकाः रविशंकर विश्वविद्यालय ने कम की इस विषय की सीट, जानिए कितने विद्यार्थी ले सकते हैं एडमिशन

एसआईटी द्वारा बवाल होने के दो कारण सामने आए—

कानपुर हिंसा में अब तक हयात जफर अंसारी समेत 58 आरोपितों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है। एसआईटी की लगातार जांच में अब तक दो बिंदु सामने आए हैं। पहला, उपद्रव की साजिश नूपुर शर्मा की टिप्पणी को लेकर भारत की विश्व पटल पर बदनामी कराने की साजिश रची गई थी। दूसरा, उपद्रव के पीछे स्थानीय कारण हिंदुओं की बस्ती चंद्रेश्वर हाता खाली कराना था। कुछ बिल्डरों की नजर इस पर है, लेकिन 19 दिन बाद नए तथ्य ने पुलिस की जांच की दिशा बदल दी है। दंगों के बाद पुलिस नई सड़क के मोबाइल टॉवरों का डाटा खंगाल रही थी, उसमें सामने आया कि एक मोबाइल नंबर से उस वक्त पड़ोसी देश से बात चल रही थी। उसके बाद से वह नंबर लगातार बंद आ रहा है।

यह भी पढ़ें :क्यों नहीं मिला राज्यपाल अनुसुइया उइके को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने का मौका? सीएम भूपेश ने बताई ये वजह

हिस्ट्रीशीटर के व्हॉटसएप चैटिंग का मिला स्क्रीन शॉट —

एसआइटी के कार्रवाई के दौरान पुलिस को व्हॉटसएप चैटिंग का एक स्क्रीन शॉट भी मिला है, जो अतीक का बताया जा रहा है, जिसमें वह उसी पाकिस्तानी व्हॉटसप नंबर से चैट कर रहा है, जो डाटा फिल्टर के दौरान मिला था। चैट में अतीक ने लिखा है कि शेख साहब और बम चाहिए, काम हो जाएगा। चैट का स्क्रीन शॉट अतीक का है या नहीं इसकी जांच चल रही है। बवाल के बाद पुलिस ने वीडियो, फोटो के आधार पर 40 हुड़दंगियों के पोस्टर जगह-जगह पर लगाए थे। कई युवकों को पुलिस ने घटना के वक्त भी दबोचा था।

हिस्ट्रीशीटर पर चल रहे 21 मुकदमें—

अतीक खिचड़ी कर्नलगंज थाने का हिस्ट्रीशीटर है। यह 40 वर्षीय अतीक खिचड़ी अपराधियों का गढ़ कहे जाने वाले गम्मू खां का हाता का रहने वाला है। उसके खिलाफ कर्नलगंज थाने में 21 मुकदमे दर्ज हैं। अतीक का भाई अकील भी हिस्ट्रीशीटर है। अतीक के खिलाफ लूट, मारपीट, हत्या का प्रयास, ड्रग्स तस्करी, गुंडा एक्ट, गैंगस्टर एक्ट में मुकदमे दर्ज हैं।

यह भी पढ़ें :Open Window Special: Maharashtra Crisis, अब तेरा क्या होगा शिवसेना? क्या शरद पवार की लिखी स्क्रिप्ट है ये या कि फडनवीस हैं सूत्रधार…जानिए Insights