नीतीश ने परिवारवाद के बहाने लालू प्रसाद पर साधा निशाना, तेजस्वी का पलटवार |

नीतीश ने परिवारवाद के बहाने लालू प्रसाद पर साधा निशाना, तेजस्वी का पलटवार

नीतीश ने परिवारवाद के बहाने लालू प्रसाद पर साधा निशाना, तेजस्वी का पलटवार

:   Modified Date:  April 20, 2024 / 08:58 PM IST, Published Date : April 20, 2024/8:58 pm IST

पटना/कटिहार/पूर्णिया, 20 अप्रैल (भाषा) बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने राजनीति में परिवारवाद को लेकर शनिवार को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद पर निशाना साधा है। उन्होंने दावा किया कि राजद के शासनकाल में किसी को नौकरी नहीं दी गयी, राज्य में जो भी नियुक्तियां हुईं, वे उनके कार्यकाल के दौरान हुईं।

कुमार कटिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) उम्मीदवार दुलाल चंद्र गोस्वामी के समर्थन में एक चुनावी जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने लालू प्रसाद और उनके परिवार के सदस्यों पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘आजकल कुछ लोग सब कुछ दावा करते हैं। हट गए तो बीवी को बना दिया और अब बाल-बच्चे को…. पैदा तो बहुत कर दिए…. इतना ज्यादा पैदा करना चाहिए किसी को बाल-बच्चा… लेकिन उतना किया… और उसी में कई दो बेटी और दो बेटा को लगाकर (राजनीति में)…. ये लोग क्या बोलते रहते हैं । वे (राजद नेता) पुरानी बातें भूल जाते हैं। लोग उन दिनों (राजद शासन) को नहीं भूल सकते।’’

कुमार ने हालांकि किसी के नाम का उल्लेख नहीं किया लेकिन उनकी टिप्पणी नौ संतानों के पिता लालू प्रसाद के परिवार को लक्षित मानी जा रही है जिसमें उनकी पत्नी राबड़ी देवी भी शामिल हैं। राबड़ी देवी बिहार की मुख्यमंत्री तब बनीं जब प्रसाद को चारा घोटाले में दोषी ठहराए जाने के कारण पद छोड़ना पड़ा था।

कुमार की उक्त टिप्पणी लालू प्रसाद के छोटे बेटे और उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी तेजस्वी यादव एवं बडे बेटे तेजप्रताप यादव को लेकर भी थी, जो प्रदेश की पिछली ‘महागठबंधन’ सरकार में क्रमशः उपमुख्यमंत्री तथा मंत्री के रूप में कार्यरत थे। उनकी दो बेटियों मीसा भारती और रोहिणी आचार्य भी लोकसभा चुनाव लड़ रही हैं। उन्होंने राजद के 15 वर्षों के शासनकाल की ओर इशारा करते हुए लालू प्रसाद यादव पर कड़ा प्रहार करते हुए दावा किया, ‘‘कभी किसी को नौकरी देते नहीं थे । हमने इन लोगों को अपनी सरकार में रखा था पर बाद में हटा दिया…. पर आजकल…. उनका बेटा बोलते है कि हम किए। अब बताइए उसने क्या किया। 2020 में ही हमने अपने सात निश्चय कार्यक्रम के तहत 10 लाख नौकरी देना तय कर लिया था।‘‘

इससे पहले कुमार ने पूर्णिया के बनमनखी इलाके में जदयू उम्मीदवार संतोष कुशवाहा के पक्ष में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘वह (तेजस्वी यादव) मेरे द्वारा किए गए कार्यों का श्रेय लेने की कोशिश कर रह रहे हैं । राजद के शासनकाल में राज्य की बिगड़ती कानून व्यवस्था के बारे में सभी जानते हैं। उन्होंने (राजद) राज्य में कोई विकासात्मक कार्य नहीं किया… राज्य में सड़कें नहीं थीं। जब मैं मुख्यमंत्री बना तो राज्य में विकास कार्य शुरू हुए।’’

मुख्यमंत्री की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए तेजस्वी यादव ने पटना में पत्रकारों से कहा, ‘‘मैं हाथ जोड़कर कह रहा हूं कि वह (नीतीश) हमारे खिलाफ जो भी कहना चाहते हैं, कह सकते हैं। मैं उनका (नीतीश) सम्मान करता हूं… और उन्हें अपना अभिभावक मानता हूं। मैं हमेशा उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं। लेकिन मैं एक सवाल पूछना चाहता हूं… क्या इस लोकसभा चुनाव में व्यक्तिगत हमले उद्देश्य पूरा करेंगे। इस तरह के निजी हमलों से बिहार के लोगों को क्या मिलेगा… यह दो परिवारों के बीच की लड़ाई नहीं है।’’

यादव ने कहा, ‘‘वह बिहार को विशेष पैकेज और विशेष राज्य का दर्जा देने की बात क्यों नहीं करते। वह बिहार के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य, शिक्षा सुविधाएं उपलब्ध कराने, राज्य के युवाओं को सरकारी नौकरियां प्रदान करने की बात क्यों नहीं कर रहे हैं।’’

कुमार की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए राजद सुप्रीमो की बड़ी बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने कहा, ‘‘चाचा जी (नीतीश) की इस टिप्पणी पर मैं क्या कह सकती हूं। जब जदयू बिहार में ‘‘महागठबंधन’’ के साथ थी, तब उन्हें इस बात की अच्छी जानकारी थी। जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ‘‘राजनीति में परिवारवाद ’’ पर कुछ भी कहना बंद कर दिया है, तो अब मुख्यमंत्री ने इस पर टिप्पणी करना शुरू कर दिया है।’’

भारती ने भाजपा पर अपने चुनावी रैलियों में कुमार को साथ नहीं ले जाने का आरोप लगाते हुए पत्रकारों से कहा, ‘‘आप लोगों को उनसे (नीतीश) पूछना चाहिए कि भाजपा उन्हें अपने शीर्ष नेताओं द्वारा संबोधित की जाने वाली रैलियों में क्यों नहीं आमंत्रित कर रही है। हम कारण जानते हैं… लेकिन मुख्यमंत्री को आप लोगों को बताना चाहिए।’’

बिहार में राजद की सहयोगी कांग्रेस के नेता आनंद माधव ने कहा कि नीतीश कुमार का इस तरह का बयान देना इस बात को दर्शाता है कि वह किस मानसिक स्थिति से वह गुजर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ‘‘उनके पास कोई मुद्दे नहीं हैं जिनको लेकर वह जनता के बीच जाएं। उन्होंने ऐसा कुछ किया ही नहीं जो जनता के बीच जाकर बताएं इसलिए इस तरह की बातें वे करेंगे।’’

उन्होंने कुमार से कहा, ‘‘आप सरकार में है, कानून बना दीजिए, अधिक बच्चा पैदा करने वाले को जेल में डाल दीजिए। ऐसी कोई बात करता है।’’

भाषा सं अनवर धीरज

धीरज

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers