OMICRON पर क्या मौजूदा Covid 19 की Vaccine काम करेगी?

South Africa में मिले कोरोना के नए वैरिएन्ट OMICRON को लेकर दुनियांभर में घबराहट फैल रही है...सरकारें चिंतित हैं और लोग डरे हुए हैं...

Edited By: , December 2, 2021 / 02:45 PM IST

Omicron Variant 

आज हम बात करने वाले हैं दुनियां में कोरोना वायरस के नए खतरे और लॉकडाउन की आशंका की… क्या दुनियांभर में एक बार फिर लॉकडाउन का खतरा मंडरा रहा है…? क्या एक फिर से कोरोना वायरस लाखों जान लेने के लिए आ रहा है…? दुनियांभर में एक बार फिर वैसी ही घबराहट दिखाई दे रही है जैसी कोरोना की दूसरी लहर के बाद दिखी थी…तब लाखों लोगों की जान चली गई थी…अस्पताल फुल हो गए थे और सांस लेने को लोग तरस गए थे… साउथ अफ्रीका में मिले कोरोना के नए वैरिएन्ट को लेकर दुनियांभर में घबराहट फैल रही है…सरकारें चिंतित हैं और लोग डरे हुए हैं…

साउथ अफ्रीका में मिले कोरोना के नए वैरिएन्ट को लेकर इस घबराहट का कारण सिर्फ इतना है कि अभी इसके व्यवहार को लेकर ज्यादा जानकारी नहीं है…कुछ वैज्ञानिक मानते हैं कि यह वैक्सीन को बेअसर कर सकता है…बस इसी के कारण हर तरफ चिंता जताई जा रही है…वहीं कुछ वैज्ञानिकों ने कहा है कि मौजूद वैक्सीन इस वैरिएन्ट पर भी काम कर सकती है….ज्यादा से ज्यादा एक और बूस्टर शॉट देने की जरूरत हो सकती है…इसलिए फिलहाल बहुत घबराने की जरूरत नहीं है… चाइना से निकली महामारी कोरोना लाखों लोगों की जान लेने के बाद भी शांत होने का नाम नहीं ले रही है …अब इसका एक और नया वैरियएन्ट आया है जिसे OMICRON नाम दिया गया है…
South Africa में पहली बार सामने आए कोरोना वायरस के इस New variant को WHO विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बहुत ही तेजी से फैलने वाला बताते हुए ‘वेरिएंट ऑफ कन्‍सर्न’ घोषित कर दिया है। बताया जा रहा है कि यह नया वेरिएंट ‘डेल्‍टा’ से भी ज्‍यादा खतरनाक है। ऐसा इसके तेजी से संक्रमण फैलाने की क्षमता के कारण कहा जा रहा है…. डेल्टा वेरिएंट के स्‍पाइक प्रोटीन में करीब 15 म्‍यूटेशंस मिले थे। वहीं बताया जा रहा है कि ‘ओमिक्रॉन’ के स्‍पाइक प्रोटीन में 30 से ज्‍यादा म्‍यूटेशंस मिले हैं जो इसे कहीं ज्‍यादा संक्रामक और घातक बनाते हैं। कुछ खबरों में तो इसके म्यूटेशंस की संख्या 50 तक भी बताई गई है….

Read More : Cryptocurrency Ban में नहीं डूबेगा निवेशकों का पैसा?

पहले यह वैरिएंट सिर्फ दक्षिण अफ्रीका में कहर बरपा रहा था पर अब इसकी चपेट में इजराइल, बोत्सवाना, हॉन्‍ग-कॉन्‍ग और बेल्जियम भी आ चुके हैं। इसी को देखते हुए भारत ने दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, ब्रिटेन, बोत्सवाना, चीन, जिम्बाब्वे, सिंगापुर,हांगकांग मॉरीशस, न्यूजीलैंड, और इजराइल सहित यूरोप के कुछ देशों को ‘एट रिस्क’ कैटेगरी में डाल दिया है. इस केटेगरी वाले देशों से आ रहे लोगों की आरटीपीसीआर जांच एयरपोर्ट पर ही कराने कहा गया है….दावा किया जा रहा है कि दिल्ली एयरपोर्ट पर रोज करीब 15 हजार टेस्ट हो रहे हैं और अभी तक नया अफ्रीकी वेरिएंट नहीं मिला है…..

इधर वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर और बायोएनटेक ने एक बयान जारी कर कहा है कि वह अभी निश्चित रूप से नहीं कह सकती कि उनकी वैक्सीन इस नए COVID-19 वेरिएंट ‘Omicron’ के ऊपर कारगर साबित होगी या फिर नहीं….अगर आप इसे डराने वाली बात मानते हैं ….तो आपको राहत देने वाली सूचना भी है…’फाइजर और बायोएनटेक को उम्मीद है कि अगले करीब 3 महीने में वह नए वेरिएंट के खिलाफ वैक्सीन विकसित करके उत्पादन कर सकती है।
मीडिया में आई खबरों के मुताबिक वैक्सीन बनाने वाली अमेरिका की कंपनी मॉर्डना ने कहा है कि वह Omicron के खिलाफ बूस्टर डोज बनाएगी….कंपनी ने कहा कि वह नए खतरे से निपटने के लिए काम कर रही है और वह अपने मौजूदा टीके को ही नए वैरिएंट के मुताबिक ज्यादा असरदार बनाएगी… कंपनी को उम्मीद है कि मौजूदा टीका इस अफ्रीकी किस्म पर कारगर है….

Read More : Cryptocurrency पर खुशखबरी, राहत दे सकती है सरकार

आपको बता दें कि वैज्ञानिकों ने पहले ही कहा था कि जैसे बाकी वायरस वातावरण में मौजूद हैं उसी तरह कोरोना भी कभी खत्म नहीं होगा हमें सिर्फ उसके खिलाफ प्रतिरोधी क्षमता बनाने की जरूरत होगी….वैक्सीन इसका उपाय है….तो आने वाले दिनों में कई नए वैरिएन्ट इस वायरस के आते रहेंगे….फिर चिंता किस बात की है ? कुछ लोगों को यह भी लगता है कि कहीं इसकी आड़ में फिर से नई वैक्सीन बेचने की साजिश तो नहीं हो रही है…. सोशल मीडिया पर इस तरह की चर्चाएं भी लोग कर रहे हैं….हालांकि इस तरह की आशंका का कोई आधार नहीं है…आपको भी ऐसी किसी बात पर ध्यान देने की जगह सावधानी बरतने की ही सलाह हम देंगे…और भीड़ भाड़ वाली जगह पर जरा सी सावधानी रखने में कोई बुराई नहीं है…
शुरुआती स्‍टडीज में आशंका जताई जा रही है कि इस Omicron वेरिएंट पर मौजूदा वैक्‍सीन करीब 40 प्रतिशत कम प्रभावी है। लेकिन इसे दूसरे ढंग से भी देख सकते हैं… वो यह है कि वैक्सीन 60 फीसदी तक प्रभावी होने की उम्मीद तो है…. खैर इस बात पर अभी और रिसर्च होना है उसके बाद ही सही पिक्चर सामने आएगी…इधर कोरोना के नए वैरिएंट ने भारत के कई राज्यों की टेंशन बढ़ा दी है। दिल्ली सरकार ने कोरोना के नए वेरिएंट से प्रभावित देशों की फ्लाइट्स पर बैन लगाने की मांग कर दी है, तो वहीं मुंबई महानगर पालिका ने दक्षिण अफ्रीका से आनेवाले लोगों को क्वारंटाइन करने की घोषणा की है…. गुजरात में भी अब कुछ दूसरे देशों से आनेवाले यात्रियों को RTPCR टेस्ट कराना ज़रूरी होगा।

दूसरी तरफ दुनियांभर में उठ रही चिंताओं के बीच भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस से उपजी स्थिति और महामारी को रोकने के लिए चल रहे टीकाकरण को लेकर टॉप गवर्नमेंट ऑफिशल्स के साथ बैठक की है। बता दें कि भारत ने 15 दिसंबर से सारी इंटरनेशनल फ्लाइट्स को दोबारा सामान्य तरीके से शुरू करने का ऐलान किया था। पर अब बढ़ते खतरे को देखते हुए माना जा रहा है कि फ्लाइट्स पर बैन जारी रह सकती है। इधर कोरोना वायरस के इस नये वैरिएंट के सामने आने के बाद यूरोपीय संघ के साथ ही अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, रूस समेत कई देशों ने अफ्रीकी देशों से ट्रैवल पर बैन लगा दिया है।

तो अब कुल मिलाकर जो स्थिति सामने आई है उसका सार निचोड़ यही है कि अभी इस नए Omicron वायरस के ऊपर रिसर्च होना बाकी है इसलिए डर का माहौल है…. पर मौजूदा वैक्सीन इस पर काम करेगी ऐसी उम्मीद भी है…रिसर्च में कुछ हफ्तों का समय लग सकता है तब तक सभी सावधानी रखें यही अच्छा होगा

Read More : Top News Today | Modi को हराने के लिए Akhilesh का Masterstroke | Cryptocurrency पर बैन के बादल