Bhupesh Baghel congratulated people of state on Krishna Janmashtami

CM भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को दी कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई, कहा – आज से शुरू हो रहा नया अध्याय

CM Bhupesh Baghel congratulated people : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई और शुभकामनाएं दी है।

Edited By: , August 19, 2022 / 01:35 PM IST

रायपुर : CM Bhupesh Baghel congratulated people : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई और शुभकामनाएं दी है। इस अवसर पर उन्होंने सबके सुख, समृद्धि और खुशहाली की कामना की है। जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर जारी अपने बधाई संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा है कि भगवान श्रीकृष्ण ने हमें सदा सत्य के मार्ग पर चलने और अन्याय के विरूद्ध खड़े होने का मार्ग दिखाया है। उनकी जीवन-लीलाएं हमें विभिन्न विपरीत परिस्थितियों में जीवन जीने का सही तरीका बताती हैं। उनके द्वारा दी गई सीख जीवन की हर परिस्थिति के लिए प्रासंगिक है।

यह भी पढ़े : हत्या की गुत्थी सुलझाने ‘पांडोखर सरकार’ के सामने नतमस्तक हुए ASI, कहा- अपराधियों को पकड़वा दो….

प्रकृति और पर्यावरण संरक्षण का एक नया अध्याय शुरू

CM Bhupesh Baghel congratulated people :  सीएम बघेल ने कहा कि पुराणों में कदंब के वृक्ष और हरे-भरे बागीचों के आस-पास भगवान कृष्ण की लीलाओं का वर्णन मिलता है। मनुष्य के लिये वृक्षों की अत्यधिक उपयोगिता होने के कारण ही हमारी परंपराओं में इन्हें महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। राज्य सरकार ने कृष्ण जन्माष्टमी से ’कृष्ण कुंज’ विकसित कर छत्तीसगढ़ में प्रकृति और पर्यावरण संरक्षण का एक नया अध्याय शुरू किया है।

यह भी पढ़े : कृष्ण अवतार में मशहूर गायिका की तस्वीर हो रही वायरल, फोटो देख चौके फैंस, कर रहे कमेंट्स 

सीएम ने की वृक्षों का रोपण कर की ’कृष्ण कुंज’ की शुरआत

CM Bhupesh Baghel congratulated people :  वृक्षारोपण को जन-जन और अपनी सांस्कृतिक विरासत से जोड़ने एवं विशिष्ट पहचान देने के लिये इसका नाम ’कृष्ण कुंज’ रखा गया है। जन्माष्टमी से सभी नगरीय क्षेत्रों में बरगद, पीपल, नीम और कदंब जैसे सांस्कृतिक महत्व के जीवनोपयोगी वृक्षों का रोपण कर ’कृष्ण कुंज’ विकसित करने की शुरूआत की गई। मुख्यमंत्री ने कहा है कि वर्तमान में अंधाधुंध कटाई से पर्यावरणीय संकट गहराते जा रहा है। पर्यावरण के संरक्षण और वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए भावी पीढ़ियों को वृक्षों के परंपरागत महत्व के बारे में जागरूक करना होगा। वृक्षों की अमूल्य विरासत को संरक्षित करना हमारा प्राथमिक दायित्व होना चाहिए।

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें