खुशखबरी, कोवैक्सीन ओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ दूसरे टीकों से ज्यादा कारगर साबित हो सकती है.. विशेषज्ञों का दावा

Covaccine may prove to be more effective against Omicron variant than other vaccines

Edited By: , December 3, 2021 / 04:51 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर कई वैक्सीन कंपनियों ने इस वैरिएंट के खिलाफ अपने टीके की प्रभावशीलता को लेकर शक जताया है। हालांकि, भारत में बनी कोरोना वैक्सीन- कोवैक्सिन को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के एक्सपर्ट्स ने भरोसा जताया है। अधिकारियों का कहना है कि भारत बायोटेक की कोवैक्सिन कोविड के इस परिष्कृत रूप से निपटने में ज्यादा प्रभावी हो सकती है।

पढ़ें- फेसबुक की दोस्ती.. होटल तक पहुंची, युवती से रेप कर बनाया वीडियो, फिर फुटेज पिता को भेजकर की 10 लाख की डिमांड

एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में अधिकारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा, “कोवाक्सिन के डोज बाकी मौजूदा वैक्सीन के मुकाबले ज्यादा प्रभावी हो सकते हैं। क्योंकि यह इनएक्टिवेटेड वायरस की तकनीक पर बनाया गया टीका है, जो कि पूरे वायरस को ही निष्क्रिय कर देता है और यह नए वैरिएंट पर भी प्रभावी पाया जा सकता है।”

पढ़ें- बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे की कजिन शादी से पहले हुईं प्रेग्नेंट? खबर सुनते ही पैरेंट्स के उड़ गए होश

कोवैक्सिन को इससे पहले कोरोना के अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ भी कारगर करार दिया जा चुका है। अधिकारी ने कहा, “हम मान सकते हैं कि कोवैक्सिन बाकी वैरिएंट्स के खिलाफ भी उतनी ही कारगर होगी।” हालांकि, अधिकारी ने साफ किया कि वैक्सीन लगवा चुके लोगों को बिल्कुल एहतियात बरत कर रहना चाहिए। हम लोग इस वैरिएंट के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता परखने के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में टेस्ट्स करेंगे।

पढ़ें- बैग में सुसाइड नोट छोड़ छात्रा ने किले से लगा दी छलांग, 50 फीट नीचे झाड़ियों में अटकी, घंटों मशक्कत के बाद बचाया गया 

क्या है कोवैक्सिन और कैसे होता है इसका निर्माण?
कोरोनावायरस वैक्सीन का निर्माण भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (बीबीआईएल) ने पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) के साथ मिलकर किया है।

पढ़ें- CGPSC PCS 2021: छत्तीसगढ़ पीसीएस के लिए आवेदन की शुरू, DSP, डिप्टी कलेक्टर, फाइनेंस ऑफिसर, सहायक संचालक, नायब तहसीलदार के पदों पर भर्ती 

एनआईवी ने संक्रमित लेकिन बिना लक्षण वाले व्यक्ति से ली गई कोरोनावायरस की एक स्ट्रेन को अलग कर लिया और इसे भारत बायोटेक को मई 2020 को सौंप दिया था। इसके बाद कंपनी ने इस स्ट्रेन पर रिसर्च करने के बाद इनएक्टिवेटेड यानी असक्रिय वायरस की तकनीक पर वैक्सीन बनाने की कोशिशें शुरू कीं।

 

इस तरह के खबरों के लिए हमारे WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने CLick करें !