ज्ञानवापी कमीशन का आदेश देने वाले जज रवि कुमार पर ‘गिरा वज्रपात’!

gyanvapi case : बीते दिनों  इलाहाबाद हाई कोर्ट से बड़े पैमाने पर जिला स्तरीय जजों का तबादला हुआ। इस लिस्ट में उस शख्स का नाम सबसे ज्यादा...

Edited By: , June 21, 2022 / 12:16 PM IST

Gyanvapi case Update 2022: बीते दिनों  इलाहाबाद हाई कोर्ट से बड़े पैमाने पर जिला स्तरीय जजों का तबादला हुआ। इस लिस्ट में उस शख्स का नाम सबसे ज्यादा सुर्खियों में रहा जिसने  ज्ञानवापी मामले में कमीशन की कार्यवाही और मस्जिद के वजूखाने को सील करने का आदेश दिया था। दरअसल, ज्ञानवापी मामले में कमीशन की कार्यवाही और मस्जिद के वजूखाने को सील करने का आदेश देने वाले जज रवि कुमार दिवाकर का तबादला कर दिया गया है। वाराणसी में सिविल जज (सीनियर डिवीजन) के पद पर तैनात रवि कुमार दिवाकर अब बरेली में सिविल जज का कार्यभार देखेंगे।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

बता दें कि इलाहाबाद हाई कोर्ट से जारी इस लिस्ट में कुल 121 जजों के ट्रांसफर की सूची जारी की गई है। इस सूची में रवि कुमार दिवाकर का नाम 100वें नंबर पर था। 4 जुलाई तक सभी जजों को अपनी नई नियुक्ति वाली जगह पर जॉइन करने के आदेश दे दिए गए हैं।

वाराणसी के सिविल जज सीनियर डिवीजन के रवि कुमार दिवाकर 2 साल पहले ही वाराणसी आए थे। श्रृंगार गौरी नियमित दर्शन पूजन को लेकर वादिनी राखी सिंह  और अन्य के मामले में रवि कुमार दिवाकर ने बेहद चौंकाने वाले फैसले दिए थे।

सख्त फैसले के लिए जाने जाते हैं रवि
श्रृंगार गौरी नियमित दर्शन मामले में रवि कुमार दिवाकर ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के कमीशन के आदेश दिए थे। और इसके लिए उन्होंने कोर्ट कमिश्नर की भी नियुक्ति की थी। कमीशन की कार्रवाई के दौरान मस्जिद के वजूखाने में कथित शिवलिंग के दावे के बाद वजूखाने को सील करने का आदेश भी रवि कुमार दिवाकर की अदालत ने ही दिया था। अपने फैसलों से लगातार चौकाने वाले रवि कुमार दिवाकर अपने कड़क फैसले के लिए जाने जाते हैं।