Monkeypox Cases : WHO ने किया बड़ा खुलासा, मंकीपॉक्स में नहीं मिला म्युटेशन, इन देशों में अबतक 200 से अधिक मामले

WHO made a big disclosure about monkeypox virus : Monkeypox Cases : WHO ने किया बड़ा खुलासा, मंकीपॉक्स में नहीं मिला म्युटेशन, इन देशों में...

Edited By: , May 28, 2022 / 11:14 AM IST

Monkeypox Cases update in Hindi  : नई दिल्ली। दुनिया के अलग-अलग देशों में मंकीपॉक्स के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इस वायरस के तेजी से फैलने को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बड़ा खुलासा किया है। WHO ने कहा है कि मंकीपॉक्स के वायरस का स्वरूप संक्रमण वाले मूल देशों और अन्य देशों में समान पाया गया है। इसका मतलब इस वायरस में किसी प्रकार का म्युटेशन या बदलाव नहीं हुआ है। इसके साथ ही डब्लूएचओ ने गैर प्रसार वाले देशों को बचाव के लिए तत्काल कदम उठाने का सुझाव दिया है।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए Click करें*<<

दरअसल, WHO में वैश्विक संक्रमण खतरों से निपटने के लिए बनाए गए कार्यदल की निदेशक सिल्वी ब्रायंड ने बताया कि, हमारे पास मंकीपॉक्स को पूरी दुनिया में फैलने से रोकने के लिए समय है। अगर हम सही जगहों पर सही उपाय करें तो इसे स्थानीय स्तर पर ही नियंत्रित कर सकते हैं। सिल्वी ब्रायंड ने कहा, इस बीमारी का फैलाव कोरोना जैसे वायरसों के मुकाबले काफी कम है।

Read More : IPL 2022 : बटलर की तूफानी पारी ने जीता दिल, कप्तान संजू सैमसन बोले- हम बहुत भाग्यशाली हैं… 

अबतक 200 से ज्यादा मामले

हालांकि अभी स्थिति उतनी गंभीर नहीं हुई हिअ कि व्यापक स्तर पर टीके लगाए जाए लेकिन संक्रमण वाली जगहों पर टीकाकरण किया जाना चाहिए। WHO में चेचक सचिवालय के प्रमुख रोजमंड लेविस ने कहा कि संक्रमितों की जांच, उनके संपर्कों की निगरानी और होम आइसोलेशन जैसे उपाय इस बीमारी में भी सबसे ज्यादा प्रभावी होंगे। बता दें मंकीपॉक्स मूल रूप से अफ्रीकी देशों में होते रहे। इस संक्रमण के यूरोप व अमेरिका जैसे गैर प्रसार देशों में इसके फैलने पर चिंता जाहिर की जा रही थी। अबतक दुनिया में मंकीपॉक्स के 200 से ज्यादा मामले मिल चुके हैं।

बीमारी से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है भारत

हालांकि इस वायरस ने अभी तक भारत में दस्तक नहीं दी है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने कहा है कि भारत इस बीमारी से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। फिलहाल देश में अभी तक एक भी मामला सामने नहीं आया है। ICMR की वैज्ञानिक डॉ अपर्णा मुखर्जी ने कहा कि, हमारी तैयारियां पूरी हैं। आईसीएमआर की ओर से इससे बचने के दिशानिर्देश जारी किए जा चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने मंकीपॉक्स प्रभावित देशों से आए लोगों को विशेष सतर्कता बरतने की सलाह दी।

Read More : छत्तीसगढ़ के इस नामी कारोबारी के ठिकानों पर जारी है सेंट्रल GST का छापा, खंगाल रही दस्तावेज