Baba Purushottamand came out of samadhi after-72-hours-in-bhopal

72 घंटे बाद 7 फीट के गहरे गड्ढे से बाहर निकले बाबा पुरुषोत्तमानंद, बोले- तीनों लोक का हुआ दर्शन, माता भगवती से हुआ साक्षात्कार

Baba Purushottamand : 72 घंटे की भूमिगत समाधि से बाबा पुरषोत्तमानंद बाहर आ चुके हैं। मंत्रोचारण के साथ साधु-संतों की मौजदूगी में बाबा बाहर आए।

Edited By: , November 29, 2022 / 08:33 PM IST

 भोपाल : Baba Purushottamand : 72 घंटे की भूमिगत समाधि से बाबा पुरषोत्तमानंद बाहर आ चुके हैं। मंत्रोचारण के साथ साधु-संतों की मौजदूगी में बाबा बाहर आए। बाहर निकलने के बाद उन्होंने चर्चा में  दावा किया कि  माता भगवती ने उन्हें साक्षात दर्शन दिए हैं। माता ने तीनों लोक के दर्शन कराए हैं। पहली बार ऐसा चमत्कार देखा है। शिव लोक, ब्रम्ह लोक और वैकुंठ लोक के दर्शन हुए हैं। मेरी यात्रा स्वर्ग से शुरू हुई थी।

यह भी पढ़ें : जीजा और उसके दोस्तों ने महिला से किया गैंगरेप, नारी निकेतन में रह रही थी विवाहिता 

इस दौरान सैकड़ो की संख्या में लोग मौजूद रहे। पुलिस और प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे। मेडिकल टीम की भी व्यवस्था की गई थी। बता दें कि बाबा ने जमीन में 7 फीट गहरे गड्ढे में समाधि ली थी। बाबा शुक्रवार सुबह 10 बजे समाधि में गए थे और आज सुबह 11.10 मिनट पर तय समय के मुताबिक उनकी समाधि के ऊपर रखे लकड़ी के तख्त हटाए गए और उन्हें बाहर निकाला गया। इसके बाद समाधि स्थल पर उनका अभिषेक किया गया और आरती उतारी गई।

Baba Purushottamand came out of samadhi after-72-hours-in-bhopal

यह भी पढ़ें : ‘ड्यूटी करने में डर लगता है साहब…, जान से मारने की मिल रही धमकी’, दबंगों के खिलाफ सिपाही ने दर्ज कराई FIR 

समाधि से बाहर आने के बाद बाबा पुरुषोत्तमानंद ने बताया कि तीन दिन तक जमीन के अंदर रहने के बाद बावजूद उन्हें किसी तरह की कोई कमजोरी महसूस नहीं हो रही है। इन तीन दिनों में उनका मां दुर्गा से साक्षात्कार हुआ। बाबा के मुताबिक, तीन दिनों से सिर्फ उनका शरीर पृथ्वी पर था, जबकि आत्मा पूरी तरह भगवान के पास थी। बाबा ने कहा कि अगली बार वह 84 घंटे की समाधि लेंगे। यहां बता दें कि भोपाल के साउथ टीटी नगर में अशोक सोनी उर्फ पुरुषोत्तमानंद महाराज मंदिर के पीछे संचालित मां भद्रकाली विजयासन दरबार के आध्यात्मिक संस्था के संस्थापक हैं। बाबा पुरुषोत्तमानंद करीब 7 फीट गहरे गड्ढे में समाधिस्थ थे। समाधि वाले गड्‌ढे को ऊपर से लकड़ी के पटिए और मिट्‌टी से ढंक दिया गया था। समाधि पूरी होने पर बड़ी संख्या में उनके अनुयायी दर्शनों के लिए पहुंचे और बाबा का आशीर्वाद लिया।

यह भी पढ़ें : Navratri 2022: महाअष्टमी आज, भूलकर भी नहीं करें ये गलतियां, नहीं तो पड़ सकते हैं संकट में 

Read more: IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें