'शौचालय बनवाने के बाद ही मुझे लेने आना', ससुराल छोड़ मायके लौट गई नई दुल्हन |

‘शौचालय बनवाने के बाद ही मुझे लेने आना’, ससुराल छोड़ मायके लौट गई नई दुल्हन

अलीगढ़ में एक नवविवाहिता ने अपना ससुराल इसलिए छोड़ दिया क्योंकि वहां पर शौचालय नहीं था। नवविवाहिता ने बताया कि वह कभी अपने मायके में खुले में शौच करने नहीं गई थी। नवविवाहिता मायके जाते हुए बोली कि जब शौचालय बन जाए तब मायके बुलाने आ जाना।

Edited By :   Modified Date:  November 29, 2022 / 08:27 PM IST, Published Date : February 16, 2022/4:32 pm IST

अलीगढ़, 16 फरवरी 2022। toilet and new bride: यूपी के अलीगढ़ से एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां पर शौचालय नहीं होने की वजह से एक नवविवाहिता ने अपना ससुराल छोड़ दिया। मिली जानकारी के अनुसार गरीबी की वजह से ससुराल के लोग एक कमरे में रहते हैं। इस बीच शादी होकर दुल्हन घर पर आई। कुछ दिन तो उसने जैसे तैसे गुजारे, लेकिन घर में शौचालय न होने के चलते वो ससुराल छोड़कर मायके चली गई।

हमारे 𝕎𝕙𝕒𝕥𝕤 𝕒𝕡𝕡 Group’s में शामिल होने के लिए यहां Click करें.

नवविवाहिता ने बताया कि वह कभी अपने मायके में खुले में शौच करने नहीं गई थी, लेकिन शादी होने के बाद ससुराल में उसको घर में शौचालय ही नहीं मिला। नवविवाहिता मायके जाते हुए बोली कि जब शौचालय बन जाए तब मायके बुलाने आ जाना।

toilet and new bride: यह मामला अलीगढ़ की तहसील खैर क्षेत्रान्तर्गत थाना टप्पल इलाके के कस्बा जट्टारी के मोहल्ले का है। जहां पर गज्जो और उसका बेटा कमल मजदूरी और कबाड़ बीन कर अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं। गज्जो की पत्नी की कुछ महीने पहले ही बीमारी के कारण मृत्यु हो गई थी, जिसके बाद गज्जो ने अपने बेटे कमल की शादी जिला प्रयागराज के गांव तकीपुर निवासी खुशी के साथ कर दी।

ये भी पढ़ें: valentine day : शरीर के इन 7 जगहों पर Kiss करने का क्या है मतलब, हर किस का है अलग अर्थ…जानें

अब परिवार को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है, कमल और उसके पिता गज्जो का कहना है कि वह अशिक्षित हैं, उनको किसी भी प्रकार की सरकारी सुविधा, सरकारी घर, मुफ्त शौंचालय नहीं मिल सका है। साथ ही आधार और राशन कार्ड तक नहीं बन पाया है। कमल की पत्नी के घर छोड़कर जाने के बाद इलाके के एक समाजसेवी को जानकारी हुई तो उन्होंने घर में शौचालय बनवाना प्रारंभ किया है। कमल को उम्मीद है कि अब उसकी पत्नी घर लौट आएगी।

 
Flowers