3 tons of garbage moving towards the moon at a speed of 9300 KM

9300 KM की रफ्तार से चांद की ओर बढ़ रहा 3 टन कूड़ा, टकराते ही दुनिया में आ सकता है महाप्रलय!

garbage moving towards the moon : अंतरिक्ष का 3 टन कूड़ा 9300 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चांद की तरफ आ रहा है

Edited By: , November 29, 2022 / 08:15 PM IST

नई दिल्ली। 3 tons garbage moving towards the moon    :  चांद से अंतरिक्ष का कूड़ा टकरा सकता है। अब तक सामने आए रिपोर्ट में पता चला है कि अंतरिक्ष का 3 टन कूड़ा 9300 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चांद की तरफ आ रहा है। जल्द ही यह कूड़ा चांद से टकरा सकता है।

यह भी पढ़ें:  अवैध संंबंध के शक में पति ने पत्नी और बेटे को उतारा मौत के घाट, अब चढ़ा पुलिस के हत्थे

वहीं इस टकराव से करीब 66 फीट गहरा होने का अनुमान है। बता दें कि इसका पता कई महीनों से लगाया जा रहा था। वहीं अब जल्द ही अंतरिक्ष का 3 टन कूड़ा चांद से टकरा सकता है। जहां पर यह गड्ढ़ा बनेगा वहां पर धरती की दूरबीन से देखना संभव नहीं है। इसलिए सैटेलाइट की तस्वीरों से असर की पुष्टि करने में वक्त लग सकता है। लेकिन, अभी यह अनुमान है कि इस टकराव से इतना बड़ा गड्ढ़ा बनेगा जिसमें सैंकडों की संख्या में बड़े- बड़े ट्रक समा जाएं।

यह भी पढ़ें:  पहले दलित RTI एक्टिविस्ट को बेरहमी से पीटा, फिर पिला दिया मूत्र, पु​लिस ने पांच आरोपियों को किया गिरफ्तार, 5 फरार

3 tons garbage moving towards the moon  :  खबरों की माने तो यह कचरा चीन द्वारा भेजा गया था जो अब चांद के करीब पहुंच गया है। दूसरी चीन ने इससे इनकार कर दिया है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस टकराव से चांद की बंजर और उभरी हुई सतह पर इससे जहां गहरा गड्ढा बनेगा, वहीं उससे उड़ने वाली धूल सैंकड़ों मील तक फैलेगी।

यह भी पढ़ें:  PM आवास योजना के तहत घर बनाने के लिए गरीबों को ​मिलेगा 50 हजार रुपए अतिरिक्त, इस राज्य की सरकार ने लिया बड़ा फैसला

वैज्ञानिकों का कहना है कि निचली कक्षा यानी धरती के पास के अंतरिक्ष में घूम रहे कचरे की जानकारी जुटाना आसान होता है। अंतरिक्ष में रुचि रखने वाले कुछ लोग इस पर नजर बनाए रखते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक चांद की तरफ बढ़ता यह कूड़ा करीब 40 फीट लंबा और 10 फीट चौड़ा है, जो प्रत्येक 2 से 3 मिनट में घूम रहा है।

यह भी पढ़ें: गरीबों को हर माह 1 रुपए में मिलेगा 1 किलो दाल, खाद्य सुरक्षा योजना के तहत इस राज्य की सरकार ने लिया फैसला