स्कूल खुलने पर अपने बच्चों की घर पर ही करें रैपिड एंटीजन टेस्ट, स्कूलों ने की सिफारिश.. जानिए पूरी प्रक्रिया

कोविड-19 : स्कूल खुलने पर अपने बच्चे की रैपिड एंटीजन जांच कैसे करें

: , January 29, 2022 / 12:37 PM IST

मेलबर्न, 29 जनवरी (द कन्वरसेशन) कई देशों में अगले सप्ताह से स्कूलों के खुलने के साथ ही कई माता-पिता रैपिड एंटीजन टेस्ट (आरएटी) का इस्तेमाल कर घर पर ही अपने बच्चों की कोविड-19 की जांच करेंगे।

पढ़ें- ब्रिज के नीचे बम लगाने की सूचना से हड़कंप, डिफ्यूज करने में जुटी बम स्क्वायड की टीम

कई सरकारों ने स्कूली छात्रों और कर्मचारियों की जांच करने की जोरदार सिफारिश की है। कई माता-पिता के लिए यह चुनौतीपूर्ण हो सकता है, खासतौर से अगर उनके बच्चे में विकासात्मक या व्यवहार संबंधी दिक्कतें हैं। तो आप घर पर अपने बच्चों की कैसे सुरक्षित तरीके से आरएटी करें या उन्हें इस प्रक्रिया में शामिल होने में मदद करें?

पढ़ें- ‘तारक मेहता’ की ‘बबीता’ जी कभी भी हो सकतीं हैं गिरफ्तार, कोर्ट ने खारिज कर दी याचिका. जानिए क्या है माजरा

जांच के लिए तैयारी करना :

जांच को सफलतापूर्वक करने के लिए बच्चे को अच्छे तरीके से तैयार करना और यह बताना कि क्या होगा, महत्वपूर्ण है ताकि स्थिति पर थोड़ा काबू पाया जा सके और बेचैनी को कम कर सके।

पढ़ें- ब्रांच जाने से पहले चेक लें ये तारीखें.. फरवरी में इतने दिन बंद रहेंगे बैंक

अपने बच्चे के साथ बैठे और बात करें :

अभिभावकों को एक हफ्ते में दो बार सुबह आरएटी करने की आवश्यकता होगी। ऐसा हमेशा नहीं होगा लेकिन कम से कम स्कूल खुलने के पहले चार हफ्तों तक जांच की आवश्यकता पड़ेगी। अगर जांच में वे कोरोनो वायरस से संक्रमित नहीं पाए जाते हैं तो वे स्कूल जा सकते हैं। सही तकनीक की जानकारी होने से आप यह जांच तेजी और सुरक्षित तरीके से घर पर ही कर सकेंगे या अपने बच्चों को भी जांच करने दे सकते हैं। आमतौर पर अपने आप को 20 मिनट का वक्त दीजिए और याद रखिए कि अपने बच्चे की जांच करते समय जल्दबाजी न करें।

पढ़ें- NSG कमांडोज ने धुना..अखिलेश यादव के साथ जबरन हो रहे थे दाखिल.. फिर दे..दनादन

जांच कैसे करें :

सबसे पहले स्वैब पैकेट के साथ मेज पर किट रखें। इसके बाद बच्चे का सिर किसी कुर्सी या सोफे पर किसी तकिये पर रखें, जहां वे आराम से लेट या बैठ सके। छोटे बच्चे को आप अपनी गोद में भी बैठा सकते हैं। इसके बाद नाक से नमूना लेने वाली ट्यूब एक हाथ में पकड़े और दूसरा हाथ बच्चे के गाल, ऊपरी होंठ या ठोड़ी पर रखें और नमूना लें। नमूना लेने वाली ट्यूब को नाक के भीतर एक-दो सेंटीमीटर तक डाले और करीब 15 सेकंड तक घुमाए। इसके बाद नमूने को तरल घोल में मिलाए और करीब 15 सेकंड तक मिलाए। इसके बाद नमूने की ट्यूब को सावधानीपूर्वक नष्ट कर दें। हाथ धोए और इंतजार करिए। ज्यादातर जांच किट्स को नतीजे देने के लिए 15 मिनट का वक्त लगता है।

पढ़ें- कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप की तुलना में ओमिक्रॉन से हो रही हैं ज्यादा मौतें.. अमेरिका में और बढ़ेंगे मौत के आंकड़े