‘तारक मेहता’ की ‘बबीता’ जी कभी भी हो सकतीं हैं गिरफ्तार, कोर्ट ने खारिज कर दी याचिका. जानिए क्या है माजरा

'तारक मेहता' की 'बबीता' जी कभी भी हो सकतीं हैं गिरफ्तार, कोर्ट ने खारिज कर दी याचिका. जानिए क्या है माजरा

: , January 29, 2022 / 12:47 PM IST

हिसार, हरियाणा। ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ की बबीता जी यानी मुनमुन दत्ता की अग्रिम जमानत याचिका हिसार की SC-ST एक्ट के तहत स्थापित विशेष अदालत के जज अजय तेवतिया ने खारिज कर दी है, जिससे बबीता जी की मुश्किलें बढ़ गई हैं और उन पर गिरफ्तारी का खतरा मंडराने लगा है।

हमारे 𝕎𝕙𝕒𝕥𝕤 𝕒𝕡𝕡 Group’s में शामिल होने के लिए यहां Click करें.

मुनमुन दत्ता उर्फ बबीता जी ने अपने यूट्यूब चैनल पर पिछले साल 9 मई को एक वीडियो जारी कर अनुसूचित जाति समाज के बारे में एक अपमानजनक टिप्पणी की थी, जिस बारे में दलित अधिकार कार्यकर्ता व वकील रजत कल्सन ने थाना शहर हांसी में 13 मई को एससी एसटी एक्ट की धाराओं के तहत एक मुकदमा दर्ज कराया था।

पढ़ें- महाराष्ट्र, तमिलनाडु और केरल में कोरोना बेकाबू.. देश में बीते 24 घंटे में 2,35,532 नए केस, 871 ने तोड़ा दम

इन मुकदमों को लेकर मुनमुन दत्ता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर सभी मुकदमों की जांच एक जगह हरियाणा के हांसी में करने की मांग की थी। इसके अतिरिक्त मुनमुन दत्ता ने सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में मांग की थी कि उनके खिलाफ दर्ज सभी मामलों को खारिज किया जाए, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया था।

पढ़ें- कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप की तुलना में ओमिक्रॉन से हो रही हैं ज्यादा मौतें.. अमेरिका में और बढ़ेंगे मौत के आंकड़े

उसके बाद मुनमुन दत्ता ने फिर हाई कोर्ट का रुख कर गिरफ्तारी पर रोक की मांग की थी, परंतु बाद में उनके वकील ने हाईकोर्ट से याचिका वापस ले ली थी।

पढ़ें- 16 फरवरी से 1 मार्च तक चलेगा माघी पुन्नी मेला, मंत्री ताम्रध्वज साहू, अमरजीत भगत अफसरों को आज देंगे जरुरी निर्देश 

मुनमुन दत्ता और बबीता जी के विरुद्ध हरियाणा के हांसी के अलावा उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली, राजस्थान व मध्यप्रदेश में भी एफआईआर दर्ज हुई थी।