चरम पर बेरोजगारी, पाकिस्तान में चपरासी के 1 पद के लिए 15 लाख से ज्यादा आवेदन, एमफिल डिग्री धारी भी रेस में..

इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यहां चपरासी के एक पद के लिए 15 लाख से ज्यादा लोगों ने आवेदन किया है।

Edited By: , September 28, 2021 / 01:00 PM IST

Unemployment in Pakistan Hindi

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में बेरोजगारी सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यहां चपरासी के एक पद के लिए 15 लाख से ज्यादा लोगों ने आवेदन किया है। वहीं आपको ये जानकार भी बेहद हैरानी होगी कि चपरासी बनने के लिए एमफिल डिग्री धारी भी इस रेस में है।

ये भी पढ़ें :  दिल्ली 2020 दंगे को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा बयान, कहा- पूर्व नियोजित साजिश थी, पल भर का आवेश नहीं

पाकिस्तान की इमरान सरकार भले ली लाख दावे कर ले लेकिन बेरोजगारी के मुद्दे पर सरकार पूरी तरह से फेल हो गई है। पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स (पीआईडीई) के आंकड़ों के अनुसार, पाकिस्तान में बेरोजगारी दर 16 फीसद तक पहुंच गई है, जो इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान सरकार के 6.5 फीसद के दावे की पोल खोल रही है।

ये भी पढ़ें : दिखेगा चक्रवाती तूफान गुलाब का असर, मौसम विभाग ने दी भारी बारिश की चेतावनी

वहीं हाई कोर्ट में एक चपरासी के पद के लिए अब तक 15 लाख से ज्यादा आवेदन किया था। नौकरी पाने के लिए एमफिल डिग्री धारक भी शामिल रहे। पीआईडीई के अधिकारियों ने कहा कि सरकार के स्तर पर कोई शोध नहीं किया जा रहा है, वहीं ज्यादा आवेदनों का विदेश से किए जाने की बात कही जा रही है।

ये भी पढ़ें :  छुपा रहे कोरोना मौत से ​आंकड़े? 50 हजार रुपए आर्थिक सहायता के लिए भेजी गई सूची में कई मृतकों के नाम गायब