Woman can't find a boyfriend

सरकारी भत्ते पर जी रही इस महिला को नहीं मिल रहा कोई प्रेमी, ‘परजीवी’ कहकर मर्द कर रहे रिजेक्ट!

Woman can't find a boyfriend: लायन मैकडरमॉट नाम की इस महिला का कहना है कि उसके बेरोज़गार होने की वजह से उसे आज तक कोई ऐसा आदमी नहीं मिल सका है, जिसके साथ वो अपना घर बसा सके। महिला का दावा है मर्दों को उसका सरकारी भत्ते पर ज़िंदगी जीना अखर जाता है।

Edited By: , November 29, 2022 / 10:36 PM IST

Woman can’t find a boyfriend: हर शख्स की चाहत होती है कि कोई उसे प्यार करें इसके साथ ही जीवन भर साथ दे, लेकिन प्यार करना और अच्छा जीवनसाथी मिलना इतना आसान नहीं। कुछ लोगों को इसके लिए संबा इंतजार करना पड़ता है, फिर भी उसे प्यार नहीं मिल पाता। एक ऐसी ही ब्रिटिश महिला का कहना है कि लोग उससे सिर्फ इसलिए दूर भागते हैं क्योंकि वो खुद पैसे नहीं कमाती।

Effects of Skipping Breakfast : ब्रेकफास्ट स्किप करने वाले हो जाएं सावधान.! हो सकते हैं इन गंभीर बीमारियों के शिकार

सरकारी भत्ते पर जिंदगी काट रही महिला

Woman can’t find a boyfriend: एक रिपोर्ट के अनुसार, लायन मैकडरमॉट नाम की इस महिला का कहना है कि उसके बेरोज़गार होने की वजह से उसे आज तक कोई ऐसा आदमी नहीं मिल सका है, जिसके साथ वो अपना घर बसा सके। महिला का दावा है मर्दों को उसका सरकारी भत्ते पर ज़िंदगी जीना अखर जाता है। वे उसे पैरासाइट अर्थात परजीवी तक कह डालते हैं। दरअसल, ये महिला साउथम्पटन की रहने वाली है। वो अकेले ही अपने बच्चे को पाल रही हैं, लेकिन उनके पास कोई भी नौकरी नहीं है।

अभी तक नहीं मिला कोई प्रेमी

Woman can’t find a boyfriend: इस महिला यूनिवर्सल क्रेडिट, डिसएबिलिटी अकाउंस और रोजगार भत्ता मिलता है। महिला की उम्र 48 साल हो चुकी है, लेकिन उसे कोई भी ब्वॉयफ्रेंड नहीं मिला। महिला का दावा है कि उनके पास किसी को बाहर ले जाकर खिलाने-पिलाने के पैसे नहीं हैं, ऐसे में मर्द सोचते हैं कि वो उनके पैसों के लिए डेटिंग करना चाहती हैं। महिला का कहना है कि ज्यादातर मर्दों को लगता है कि वो प्यार नहीं बल्कि पैसे के लिए डेट करना चाहती हैं।

किसानों की बल्ले-बल्ले.. सरकार के तरफ से मिलेंगे लाखों रुपये, बस इस तारीख से पहले करना होगा ये आवेदन

लोगों ने कहा परजीवी

Woman can’t find a boyfriend: लायन का कहना है कि एक शख्स ने तो उन्हें ये तक कह दिया कि वो चल-फिर सकती हैं, बात कर सकती हैं, लेकिन काम नहीं कर सकतीं। दूसरों के बल पर परजीवी की तरह जीना चाहती हैं। उन्हें एंडोकार्डिटिस की वजह से वॉल्व बदलवाने की सर्जरी साल 2017 में करानी पड़ी। यही वजह है कि वो काम नहीं कर सकतीं और अपनी और बच्चों की ज़िंदगी सरकारी भत्ते पर जी रही हैं।

देश दुनिया की बड़ी खबरों के लिए यहां करें क्लिक