दहेज लेने से पति ने किया इनकार तो रूठ गई पत्नी, ससुराल जाने को राजी नहीं, कोर्ट पहुंचा मामला

राजधानी में पति-पत्नी के बीच झगड़े का एक अनोखा मामला सामने आया है, पत्नी इस बात से नाराज हो गई है कि उसके घर से मिली कार और दूसरा सामान पति लेने से इनकार कर रहा है। इस मुद्दे पर विवाद इतना बढ़ गया पत्नी ससुराल जाने को ही तैयार नहीं हो रही है।

Edited By: , December 6, 2021 / 03:27 PM IST

*IBC24 के समाचार  WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने 🤝🏻 के लिए Click करें*

 

भोपाल. Unique Dowry Case Bhopal: राजधानी में पति-पत्नी के बीच झगड़े का एक अनोखा मामला सामने आया है, पत्नी इस बात से नाराज हो गई है कि उसके घर से मिली कार और दूसरा सामान पति लेने से इनकार कर रहा है। इस मुद्दे पर विवाद इतना बढ़ गया पत्नी ससुराल जाने को ही तैयार नहीं हो रही है। अब यह पूरा मामला कोर्ट की दहलीज पर पहुंच गया है।

read more: छत्तीसगढ़ में विदेश यात्रा से वापस लौटे 44 लोग गायब, रायपुर में 180 लौटे, अब तक 450 लोग विदेश यात्रा से आए हैं वापस
युवक ने पत्नी को घर बुलाने के लिए हिंदू मैरिज एक्ट की धारा 9 के तहत परिवाद दायर किया है, मामले पर कोर्ट में विचार चल रहा है। मामला राजधानी भोपाल के अरेरा कॉलोनी का है। पति ने पूरे मामले की जानकारी पुरुषों के लिए काम करने वाली संस्था भाई वेलफेयर सोसायटी को दी है। पति ने संस्था को बताया कि उनकी शादी इसी साल 14 फरवरी को हुई थी। शादी की हर रस्म को निभाने के लिए उन्होंने एक रुपए की राशि ससुराल से ली थी। इसके बाद भी ससुराल पक्ष ने उनके लिए कार और गृहस्थी का पूरा सामान लिया। उन्होंने यह सामान लेने से इनकार कर दिया।

read more: 50% क्षमता के साथ स्कूल खोलने का आदेश जारी, डीईओ मनोज राय ने सभी स्कूलों को दिए निर्देश
इसी बात को लेकर पत्नी नाराज हो गई और वह अपने घर वापस लौट गई, पत्नी बीते 3 महीने से ससुराल नहीं आई है। वह इस बात पर अड़ी है कि जब तक उसके माता-पिता का दिया सामान वह नहीं ले लेते तब तक वह पति के साथ नहीं रहेगी।

जिला कोर्ट में परिवाद के मामले में अब काउंसलिंग कराई जा रही है, काउंसलर ने पति को समझाया कि महिला के मायके से मिलने वाले सामान को वो दहेज न माने, आपने कोई डिमांड नहीं की है। ससुराल वाले अपनी बेटी को सामान दे रहे हैं, यह सब तुम्हारी पत्नी का है। इससे उसे वंचित न करें, फिलहाल पहली काउंसलिंग में बात बन गई थी, लेकिन रिश्ता आगे न टूटे इसलिए समझाइश जारी है।