#NindakNiyre स्टालिन क्यों ऐसी बात करते हैं जिससे देश टूट जाए? By बरुण सखाजी

#NindakNiyre: क्या स्टालिन चाहते हैं तमिल को अलग देश बना दिया जाए?

Edited By: , November 29, 2022 / 12:08 PM IST

बरुण सखाजी. राजनीतिक विश्लेषक

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी को ऐसी किताब भेंट की, जिस पर बनी फिल्म ने वितंडा खड़ा कर दिया था। इस किताब को पीएम को उस वक्त भेंट किया गया जब वे तमिल के दौरे पर थे। एयरपोर्ट पर स्वागत के दौरान मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने यह किताब पीएम को गिफ्ट की। राजनीतिक विश्लेषक इसे आंतरिक खतरे के रूप में देख रहे हैं। स्टालिन पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि के वारिस हैं।

सत्ता को सियासत समझने, मानने वालों के सामने देश छोटा और सत्ता बड़ी होती है। जनमत का सम्मान होना चाहिए, किंतु जनमत की आड़ में व्यवस्था से खिलवाड़ ठीक नहीं। प्रधानमंत्री मोदी को जो किताब दी गई है, उसका नाम पोन्नियन सेल्वन है। इसमें एक कथा, इतिहास, कल्पना, कहानी, मिथक, फिल्म आदि है। यह वही किताब है जिस पर बनी फिल्म की आड़ में फिल्म कलाकार कमल हासन ने नया विवाद खड़ा किया था। उन्होंने कहा था चोल हिंदू नहीं थे। तभी से इस फिल्म और किताब को अलग-अलग नजरियों से देखा जाने लगा। बताया गया कि हिंदू शब्द ब्रिटिशर्स ने ईजाद किया था। चोल राजा हिंदू नहीं थे, लेकिन वे शिव की पूजा करते थे।

स्टालिन लोकप्रिय हैं। वे चेन्नई के मेयर रह चुके हैं अभी मुख्यमंत्री हैं। अनुभवी हैं। करुणानिधि के उत्तराधिकारी हैं। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि वे तमिल के ठेकेदार हैं। स्टालिन ने कमल हासन की लाइन को पकड़ा और इस किताब पर बनी फिल्म के पीछे सियासत शुरू की। यूं तो पोनियन सेल्वन तमिल की राजाराजा चोल की कहानी है। यह 50 के दशक से तमिल में लोकप्रिय किताब है, लेकिन इसे ट्विस्ट करके फिल्मकारों ने नया रंग देने की कोशिश की है। माना जा रहा है स्टालिन ने यह किताब मोदी को हिस्ट्री ऑफ तमिल के रूप में नहीं बल्कि यह बताने की कोशिश की है कि तमिल के लोग चोल के वंशज हैं जो हिंदू नहीं थे। हिंदू होने न होने का एजेंडा राजनीतिक नफे-नुकसान का हो सकता है, लेकिन भारत के लिए नुकसान की शर्त पर तो कतई नहीं।

read more: छत्तीसगढ़ में भी कटेगी BJP विधायकों की टिकट! CM भूपेश बघेल बोले- मैं तो विधानसभा में भी कह चुका हूं
read more:  Bhanupratpur by-election: भानुप्रतापपुर में भाजपा ने किया अपने प्रत्याशी के नाम का ऐलान, इस पूर्व विधायक को बनाया उम्मीदवार