Bejod Bastar: The fate of the farmers of Abujhmad is changing

Bejod Bastar : बदल रही अबूझमाड़ के किसानों की तकदीर, आजादी के 75 सालों बाद मिला जमीन का मालिकाना हक, IBC 24 ने किया सम्मानित

Bejod Bastar : बदल रही अबूझमाड़ के किसानों की तकदीर, आजादी के 75 सालों बाद मिला जमीन का मालिकाना हक,IBC 24 ने किया सम्मानित

Edited By: , January 25, 2023 / 09:38 PM IST

नारायणपुर । छतीसगढ़ के नारायणपुर जिले में अबूझ कहे जाने वाले अबुझ्माड़ की तस्वीर अब बदल रही है ,अबूझमाड़ की नई तस्वीर और नई सुबह ने यंहा के किसानो की तकदीर बदल कर रख दी ,भूपेश सरकार ने यंहा के 7728 किसानो को उनके जमीन का मालिकाना हक आजादी के 75 साल बाद दिलवा दिया , दरअसल मसाहती सर्वे के आधार पर यंहा के किसानो की क्रषि भूमि का सर्वे किया गया,जिले के घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र ओरछा ब्लाक के अबूझमाड़िया जनजाति के किसानो की जमीन का कोई भी दस्तावेज नहीं होने के चलते यंहा के किसानो को शासन की किसी भी योजना का लाभ सही ढंग से नहीं मिल पाता था।

सुकमा के अंदरूनी इलाकों में फिर जग रही शिक्षा की अलख, सुकमा के शिक्षा दूतों को IBC 24 ने किया सम्मानित…

नारायणपुर जिले में अबूझमाड़ का 3904 वर्ग किलोमीटर का इलाका अनसर्वेड है , यंहा लाल आतांक के साए के चलते , ये इलाका आज भी दुर्गम है नक्सली दहशत के चलते आज तक सर्वेहिन् रहा अबूझमाड़ अपनी बदहाली के आसू रोया करता है ,यह इलाका बहुत ही खुबसूरत प्रकृति की गोद में बसा है ,यंहा अपार खनिज वन सम्पदा का भण्डार है ,यंहा पाए जाने वाले वनोपज पूरी दुनियाभर में बहुत बहुउपयोगी माने जाते है ,लेकिन यंहा निवास कर रहे देश की विशेष पिछड़ी जनजाति के आदिवासियों को उनके वनोपज का दाम नहीं मिल पाता है।

Bejod Bastar: स्माल मिलेट का हब बनता जा रहा नारायणपुर, कभी होती थी सबसे पिछड़ों जिलों में गिनती, IBC 24 ने जिले के मावली स्वसहायता समूह को सम्मानित…

छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार ने अब यंहा के आदिवासियों के हक और हुकुक पर काम किया ,अबूझमाड़िया किसानो को कृषि योजना का लाभ दिलवाया ,पहली बार अबूझमाड़ में धान केंद्र खोले गए और और अबुझ्माड़ीया किसानो का धान समर्थन मूल्य में खरीदा गया , साथ ही वन अमले के द्वारा समर्थन मूल्य में वनोपज की खरीदी कर वनोपज का सही दाम दिलवाया अब अबुझमाड़िया किसान खुश नजर आ रहा है।

Bejod Bastar : बस्तर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे नित नए प्रयास, IBC 24 ने होम स्टे संस्था को किया सम्मानित

नारायणपुर जिले का अबुझमाड़ अपनी आदिम संस्कृति और अपनी आदिम रीती रिवाजो के नाम से पूरी दिया में विख्यात है ,यंहा की ककसाड़ और मांदरी नृत्य ,धुन ने पूरी दुनिया में अपना लोहा मनवाया ,देश में विशेष पिछड़ी जनजाति का दर्जा प्राप्त अबुझमाडिया जनजाति के आदिवासियों को छतीसगढ़ की भूपेश सरकार ने शासन की योजनाओं का लाभ दे कर उन्हें उनका हक दिलवाया है अब हर अबुझमाडिया ग्रामीण भूपेश सरकार से जुड़ कर समाज की मुख्यधारा में अपने आप को महसूस कर रहा है ,और जय भूपेश सरकार कहकर धन्यवाद जता रहा है |

Bejod Bastar : बदल रही अबूझमाड़ के किसानों की तकदीर, आजादी के 75 सालों बाद मिला जमीन का मालिकान हक,IBC 24 ने होम स्टे संस्था को किया सम्मानित